Sansar डेली करंट अफेयर्स, 11 January 2018

Print Friendly, PDF & Email

Sansar Daily Current Affairs, 11 January 2018


GS Paper 3:

Topic: संकल्प प्रोग्राम

  1. संकल्प प्रोग्राम एक कार्यशाला है जिसमें सेवानिवृत्त होने वाले कर्मियों को परामर्श दिया जाता है.
  2. यह कार्यशाला कार्मिक मंत्रालय के पेंशन और पेंशनर कल्याण विभाग (DOP&PW) के द्वारा संचालित होती है.
  3. इस कार्यशाला में पेंशनरों को यह बताया जाता है कि वे अपने-अपने कार्यालयों के परामर्शदाता निकाय में शामिल हों और पेंशन से सम्बन्धित शिकायतों को दूर करें.
  4. DOP&PW ने संकल्प योजना के तहत अभी तक 3000 कर्मियों को सेवानिवृत्ति-पूर्व परामर्श दिए हैं.
  5. संकल्प प्रोग्राम के लिए एक वेब-पोर्टल भी चलाया गया है जिसका लाभ पेंशनर, पेंशनर संघ और गैर-सरकारी संगठन उठा सकते हैं.

GS Paper 3:

Topic: संकल्प से सिद्धि

  1. Sankalp Se Siddhi कार्यक्रम केंद्र सरकार की एक नई पहल है जो भारत सरकार के नया भारत आन्दोलन (2017 से 2022) का एक अंग है.
  2. इसका शुभारम्भ भारत छोड़ो आन्दोलन की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर किया गया था.
  3. नया भारत आन्दोलन (2017-2022) का उद्देश्य है लोगों के बीच जागरूकता बढ़ा कर भारत को कई सामाजिक बुराइयों, जैसे – भ्रष्टाचार, आतंकवाद, अस्वच्छता आदि से मुक्त करना.

GS Paper 3:

Topic: धम्म से सम्बन्धित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

  1. धम्म से सम्बन्धित चौथे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का बिहार के राजगीर में उद्घाटन किया गया.
  2. यह सम्मेलन नालंदा विश्वविद्यालय के द्वारा धर्म और समाज अध्ययन केंद्र तथा विदेश मंत्रालय के सहयोग से आयोजित किया गया.
  3. इस सम्मेलन का उद्देश्य है भारत और विदेश के विद्वानों और नीति-निर्माताओं को विचार आदान-प्रदान करने का अवसर देना और एक बेहतर विश्व के लिए आपसी सहयोग को बढ़ावा देना.

GS Paper 3:

Topic: भविष्य में ग्रीष्मकाल का लम्बा होना

  1. हाल ही में किये गए एक अनुसंधान का निष्कर्ष है कि 2070 आते-आते गांगेय मैदानों में ग्रीष्मकालीन गर्म लहरें 8 महीने तक चलने लगेंगी.
  2. ऐसा तब होगा जब ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन की रोकथाम करते हुए विश्व के तापमान की वृद्धि को 2°C की सीमा तक रोका नहीं जाता है.
  3. किये गए अध्ययन से यह स्पष्ट हुआ है कि ये गर्म लहरें wet-bulb temperature के अधिक-कम होने के कारण पैदा होती हैं.
  4. ताप और आर्द्रता की संयुक्त वैज्ञानिक इकाई को wet-bulb temperature कहते हैं.
  5. लम्बे समय तक चलने वाली गर्म लहरों का विशेष असर उन लोगों पर पड़ेगा जो घर से बाहर काम करते हैं और जिन्हें दिल और साँस की तकलीफ है.
  6. इन लहरों के कारण नए रोग भी उत्पन्न हो सकते हैं और कृषि पर इनका दुष्प्रभाव पड़ सकता है.

ये भी पढ़ें >

Sansar Daily Current Affairs, 10 Jan, 2018

Leave a Reply

Your email address will not be published.