500 रु. और 2000 रु. के आगमन से Indian Economy पर प्रभाव

500 रु. और 2000 रु. के आगमन से Indian Economy पर प्रभाव

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8.11.2016 तारीख को भारतीय मुद्रा प्रणाली में एक नया बदलाव लाया है. वहाँ अमेरिका आज वोट गिन रहा है और यहाँ भारत आज नोट गिन रहा है. सम्पूर्ण देश को संबोधित करे हुए मोदी जी ने कहा कि 11 नवम्बर की रात से भारत में प्रचालित या जमा किये गए 500 रु. और 1000 रु. के जितने भी नोट हैं, वे अमान्य (invalid) हो जायेंगे यानी उनकी value कागज़ के सामान हो जाएगी. पर ऐसा निर्णय क्यों  लिया गया? आम जनता पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा जिनके पास पहले से ही 500 रु. और 1000 रु. के कुछ नोट घर के अलमारी में पड़ें हैं?  आगे बताते हुए श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आम जनता के पास जितने भी 500 रु. और 1000 रु. के नोट पहले से पड़े हैं, वे उन्हें 10 नवम्बर से 30 दिसम्बर (50 दिन) तक बैंक में जमा कर आयें.

यह भारत सरकार की एक सर्जिकल स्ट्राइक है जिसका अंजाम काले धन जमा करने वाले, जमाखोरों, तस्करी करने वाले लोग भुगतेंगे. नकली नोट और काले धन का इस्तेमाल भारत में आतंकवाद फैलाने के लिए हो रहा है. नकली नोट छापने वाले जो बाजार में न जाने करोड़ों रुपये तक के नोट अभी तक बाजार में फैला और छाप रखे होंगे, आज रात से सब की value अब zero rupee हो चुकी है.

पर मोदी ने demonetization का फैसला लिया क्यूँ?

Demonetization यानी किसी ख़ास मुद्रा का चलन बंद कराने का लक्ष्य केवल एक होता है और वह है जमा किये काले धन को मृतप्राय बना देना. इसलिए ऑफिस में काम करने वाले बड़े बाबू, अफसर, उद्योगपति आदि जिन्होंने गैर-कानूनी रूप से काला धन कमाया है, उनके लिए 11 नवम्बर की तारीख किसी काले दिन से कम नहीं है. काले धन कमाने वाले black money बैंक में नहीं रख सकते क्योंकि बैंकों के पास उनके काले धन का record हो जायेगा. इसलिए अक्सर आपने सुना होगा कि काले धन कमाने वाले लोग अपना पैसा Swiss Bank में जमा करते हैं जहाँ RBI को data निकालने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है. इसलिए काले धन कमाने वाले घूसखोर, गैर-कानूनी ढंग से कमाए गए पैसे को घर की टंकी में, बिस्तर के नीचे, धरती के नीचे टंकी बना कर जमा कर रखते हैं. 2015 में भारत में 4 लाख 77 हजार 546 करोड़ रुपये के नकली नोट जब्त किये गए. अब जरा आप सोचिये! मोदी के इस decision से उन पर क्या बीत रही होगी? उनके सारे पैसे अब कागज़ के मूल्य के हो गए!

मोदी ने और क्या-क्या announce किया? Important points Modi mentioned about 2016 Demonetization

  1. भारत के सभी सिक्के और 1, 2, 5, 10, 20, 50 और 100 रूपए के नोट चलेंगे
  2. रुपये (INR) की एक नई शृंखला की शुरुआत होगी. 500 रुपये के नए नोट आयेंगे और 2000 रु.
  3. बैंक 9 नवम्बर को बंद रहेंगे.
  4. 9-10 तारीख को एटीएम (ATM) भी बंद रहेंगे.
  5. कुछ दिनों तक आप अपने per debit card से केवल Rs. 2000 ही निकाल सकते हैं. बाद में यह सीमा बढ़ा कर Rs. 4000 कर दी जाएगी.
  6. यदि आपको cash की जरुरत है तो आप अभी बैंक जा कर पुराने 500 रु और 1000 रु के नोट को exchange भी कर सकते हैं.
  7. इंटरनेट बैंकिंग, नकद, डिमांड ड्राफ्ट के लेन-देन पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा.
  8. दैनिक नकद निकासी की सीमा 10,000 रुपये और मासिक निकासी की सीमा 20,000 रु. तय की गई है.
  9. RBI द्वारा जल्द ही 500 और 2000 के नोट जारी किये जायेंगे.
  10. डाकघर, बैंक इत्यादि को अतिरिक्त काउंटर खोलने का निर्देश दिया गया है और जनता की सुविधा के लिए कर्मचारियों के काम करने के घंटे (working hours) का विस्तार का भी निर्देश है.
  11. 72 घंटे यानी तीन दिन तक सरकारी अस्पतालों में Rs. 500 और Rs. 1000 के नोट स्वीकार किये जायेंगे.
  12. रेलवे, सरकारी बस, एयरलाइन टिकेट काउंटर में भी तीन दिनों तक Rs. 500 और Rs. 1000 के नोट स्वीकार किये जायेंगे.
  13. Government Oil Companies में तीन दिनों तक Rs. 500 और Rs. 1000 के नोट स्वीकार किये जायेंगे.

कुछ ऐसा दिखेगा 500 रु. और 1000 रु. का नया नोट

500 rs_2000rs_newnote

आगे आपको बताऊंगा कि इस Demonetization के बाद आम जनता क्या अब क्या Step ले?

शुरआती दौर में आम जनता को दिक्कत आ सकती है. जैसे बैंक में भीड़ भी लगेगी, लम्बी कतारें लगेगी. सब अपना-अपना पैसा जमा कराने बैंकों में आयेंगे. RBI अन्य नोट अधिक से अधिक छापेगा. जिससे inflation भी आ सकता है. वैसे RBI 2000 रु. के नोट को regulate और monitor करते रहेगा और अर्थव्यवस्था पर इसके प्रभाव पर उसकी पैनी नज़र रहेगी. यह आर्टिकल बाद में फिर से अपडेट किया जायेगा.

आपको नोट एक्सचेंज करने के लिए यह फॉर्म भरना पड़ेगा:— Form Format (Annex 5)

bank_500_2000rs_exchange format

 

500 Rs, 1000 Rs, 2000 Rs. New Note की Exchange Policy –  कब और कैसे होगी?

500_2000rs_new_note_policy

Audio Notes in Hindi (Demonetization)

About Sansar

संसार लोचन sansarlochan.IN ब्लॉग के प्रधान सम्पादक हैं. SINEWS नामक चैरिटी संगठन के प्रणेता भी हैं. ये आपको अर्थशास्त्र (Economics) से सम्बंधित अध्ययन-सामग्री उपलब्ध कराएँगे और आपके साथ भारतीय एवं विश्व अर्थव्यवस्था विषयक जानकारियाँ साझा करेंगे.

24 Responses to "500 रु. और 2000 रु. के आगमन से Indian Economy पर प्रभाव"

  1. kavita charan   November 8, 2016 at 11:03 pm

    Sir kya yeh plan india me kaam krega …
    Iska bada virodh hoga sir g.

    Reply
  2. Braj Kishore   November 9, 2016 at 5:27 am

    Thanks for this information.

    Reply
  3. kundan sinha   November 9, 2016 at 7:26 am

    sabko iska support karna chahiye.

    Reply
  4. Richa   November 9, 2016 at 9:50 am

    Please be prepared for misleading messages by some political parties. Don’t let them fool us. We citizens may face issues for a few days, but this is start of Bahot Ache Din! India had an infection, needed a surgery, will pain for some time but we will come out healed and stronger than before!
    Please support Govt this time and teach corrupt people a lesson.
    It’s our duty to stand with Govt this time!
    Jai Hind!

    Reply
  5. Neelam Rathore   November 9, 2016 at 11:16 am

    Thanks for giving us information.

    Reply
  6. Rashmi   November 9, 2016 at 11:22 am

    Respected Sir,

    black money kaise roki jaa skti hai iss plan se ?

    Reply
  7. RANU   November 9, 2016 at 1:55 pm

    THANKS SIR FOR IMFORMATOIN ……..

    Reply
  8. anil rawat   November 11, 2016 at 2:10 pm

    Sir our govt should install such software in every atm machine.so that when we withdrawl and deposit money from atm machine at that time it identify fake notes

    Reply
  9. rahul   November 15, 2016 at 1:54 pm

    SIR, apka artical padne k baad kuch quction puchne h..

    1- indian economy par futuer efact kya honge.
    2- india ki devlopment kese hoge.. like .( real estet ) kyuki hum sab jante h ki real estet mai jada black mony lagta h. esliye devlopment hota h.. ab 500-1000 note band hone k baad aane wale 10 year tak devlopment ruk jaega,

    Reply
    • Sansar Lochan   November 16, 2016 at 9:11 am

      Demonetization भारतीय अर्थव्यवस्था में पहली बार नहीं हुआ है इसलिए इसके कोई दूरगामी प्रभाव नहीं पड़ेंगे. अर्थव्यवस्था में इसका short-term impact पड़ता है और काला धन अर्थव्यवस्था से अचानक चला जाता है. काले धन वाले लोग पैसा बैंक में जमा नहीं कर पाते और उनका छुपाया हुआ काला धन भारतीय बाजार में फैलने से रुक जाता है. फिर धीरे-धीरे अर्थव्यवस्था में नए नोट्स आ ही जाते हैं और अर्थव्यवस्था उसी स्थिति में वापस आ जाती है. हाँ, अगले Budget में GDP Growth बहुत देखने को मिलेगा.

      Reply
      • Anonymous   November 22, 2016 at 9:05 am

        Thank you sir…

        Reply
  10. Satyendra   November 20, 2016 at 2:08 pm

    Right work for Indian economy good division modi sir proud to be Indian

    Reply
  11. RAHUL   November 21, 2016 at 9:40 pm

    SIR, how to prepare CSAT becaus math nd calculaction , achi nai h.
    2016 mai 1st atemp diya tha g.s acha gya but CSAT ka paper dek k esa laga ki pata nai kaha se paper aagya..MATH ki nomal calculaction be nai ho pati..
    i KNOW CSAT mai 5Q be tik nai honge..

    TELL ME ;1) how to prepaer csat. nd which sorce to read help for study.
    2) nd most imp ki – START kese or kaha se karu

    Reply
    • Sansar Lochan   November 22, 2016 at 9:07 am

      CSAT में मैथ्स में आपको प्रकांड विद्वान् बनने की जरुरत नहीं है. थोड़ी सी ही मेहनत चाहिए. अब तो पेपर 2 में केवल 33% चाहिए, आपको डर किस बात का है? मैथ्स से डर है तो रीजनिंग पर फोकस करें.
      यह एक लम्बा प्रोसेस है. मेहनत करें.

      Reply
  12. Nikhil   November 23, 2016 at 8:28 pm

    Useful…information…sir g…
    Tnku so much

    Reply
  13. pappukumar   December 1, 2016 at 3:31 pm

    pappukumar(gayk),g+p.rohua warisnagar

    Reply
  14. Vinod Gunawat   December 12, 2016 at 11:47 am

    Sir,
    Mujhe Balance sheet ke baare main hindi main janna hai and Functions of banks ke baare main bhi plz Publish a article about it or tell me about it!

    Reply
  15. Prashant   January 1, 2017 at 12:57 pm

    Bahut achaa hai thanks a lot

    Reply
  16. bhagirathsinh jadeaja   January 4, 2017 at 10:10 pm

    Sir me jan na chahta hu ki black money kitney prakar ki hoti hai kya sirf note bandhi se black money par control kiya ja sakta hai? aur indian economy par padne wale asar kya honge

    Reply
  17. Anonymous   January 15, 2017 at 8:40 pm

    Sir how can I subscribe your economics topic

    Reply
  18. Prashant   January 16, 2017 at 7:27 am

    Sir, I regularly read your post.
    I’m confused about upsc syllabus that what to read and what to not.
    Can you please share detailed syllabus.

    Reply
  19. Anonymous   January 16, 2017 at 8:22 am

    very good information Sir thanks

    Reply
  20. Ananya Singh   March 2, 2017 at 11:55 pm

    Sir please make update version of this article and very humble request sir ,please make more series of Economics from UPSC point of view .They way u explain things ,approach used in articles that is commendable and very easy to understand the concept .Please continue Econonics series sir .Thanks in advance .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.