MSF क्या होता है? Marginal Standing Facility in Hindi

Print Friendly, PDF & Email

इस आर्टिकल को पढ़ने से पहले आशा है कि आपने रेपो रेट, एस.एल.आर. आदि के बारे में पढ़ लिया होगा, यदि नहीं पढ़ा है तो यहाँ क्लिक करें>> Repo rate, SLR, Reverse repo rate, CRR. आज हम MSF की बात करेंगे जिसका फुल फॉर्म है – Marginal Standing Facility. MSF भी बैंकिंग से सम्बंधित टर्म है. भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति (2011-12) में सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) शुरू की थी. इसके अंतर्गत अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक (Scheduled Commercial Bank) रिजर्व बैंक से, वर्तमान रेपो दर से 1% अधिक ब्याज दर पर पैसा उधार ले सकता है. यद्यपि उधार लेने की technique रेपो रेट के जैसी ही है….जैसे>> SBI ने यह कह कर RBI के पास बांड  गिरवी रखी कि वह उसे बाद में अधिक दर पर खरीदकर वापस ले लेगा. इसमें भी बांड गिरवी रखकर लोन लिया जाता है.

अक्सर अपने जमा और ऋण पोर्टफोलियो में imbalance होने के चलते बैंकों को तरलता की कमी का सामना करना पड़ता है. बैंकों में अचानक नकदी/तरलता की भारी कमी आ जाने पर MSF के माध्यम से RBI से धन उधार ले लिया जाता है. ये लोन short-term loan होते हैं जिन्हें सिर्फ एक दिन के लिया जाता है. 

इसे इस तरह से याद कर सकते हैं:–>>

  1. रेपो रेट = रिवर्स रेपो रेट + 1%
  2. MSF रेट= रेपो रेट + 1%

MSF के अंतर्गत कम-से-कम 1 करोड़ रूपये का लोन लिया जाता है. कोई भी बैंक RBI से अधिकतम उतना ही राशि का MSF ले सकता है जितना उसकी शुद्ध माँग और टर्म दायित्वों/Net demand and Time liabilities (NDTL) का 1% होता है. उफ़! यह तो टेक्निकल और थकाऊ लाइन मैंने कह दिया :p—- दूसरे शब्दों में कोई भी बैंक अधिकतम (maximum) अपने जमा एवं उधार की कुल राशि (total amount) का एक प्रतिशत ही ऋण ले सकता है. मतलब जितना बैंक का औकात है , उतने का 1% लोन ही ले सकता है. याद रहे कि बैंक के जमा (deposits) और उधार (borrowings) के योग को NDTL कहा जाता है.

MSF Rate में बढ़ोतरी क्या हमें प्रभावित करती है?

१. वही formula जो हमने रेपो रेट वाले पोस्ट में जिक्र किया है, यहाँ भी apply होता है. MSF rate के बढ़ जाने पर>> बैंक का RBI से लोन लेना महंगा पड़ेगा>>जिसका मतलब है कि आम आदमी या कॉर्पोरेट ऋण लेने वालों के लिए बैंक से ऋण लेना महंगा पड़ेगा.

२. जब लोगों के पास पैसे ही नहीं रहेंगे तो तरलता में कमी आएगी.

३. मुद्रा आपूर्ति (money-supply) को नियंत्रित करने के लिए RBI द्वारा अपनाए जाने वाले अन्य उपायों में से यह भी एक उपाय है.

29 Responses to "MSF क्या होता है? Marginal Standing Facility in Hindi"

  1. sundram pandey   October 18, 2016 at 7:16 am

    Thanks sir…sir mere email pe 9 Oct ke bd ka koi post nhi aya sir.kyu sir plz bataiye

    Reply
    • Sansar Lochan   October 18, 2016 at 7:53 am

      क्या आप बता सकते हैं कि लास्ट New Post आपके मेल पर कौन-सा आया था?

      Reply
  2. Babita   October 22, 2016 at 9:38 pm

    Tanks a lot sir

    Reply
  3. Anonymous   December 2, 2016 at 12:15 am

    Thanks sir ji

    Reply
  4. sujay das   December 6, 2016 at 8:12 am

    Bank rate kya he…?

    Reply
  5. Gautam   December 19, 2016 at 2:59 am

    Thanks sir ji

    Reply
  6. amit sharma   January 4, 2017 at 2:56 pm

    sir you are amazing ,what a simple way of expressing these topics are brilliant hats off…..

    Reply
  7. Deep   January 13, 2017 at 9:05 am

    Sir open market operation k bare m bta do??

    Reply
  8. rahul   February 12, 2017 at 11:26 pm

    thanks sir

    Reply
  9. Anonymous   February 16, 2017 at 1:33 am

    thanks sir

    Reply
  10. lk   February 16, 2017 at 4:28 pm

    Current RBI policy rates are
    Policy Repo Rate : 6.25%
    Reverse Repo Rate : 5.75%
    Marginal Standing Facility Rate : 6.75%
    (ref: https://www.rbi.org.in/)
    & your given formula is रेपो रेट = रिवर्स रेपो रेट + 1%
    MSF रेट= रेपो रेट + 1%

    Is RBI wrong?

    Reply
  11. Sunil Kumar   February 25, 2017 at 8:46 pm

    about
    1- Indian fiscal policy
    2-money market

    Reply
  12. Anonymous   March 21, 2017 at 6:54 pm

    Rates change ho gai h..
    Rev. Repo + 0.5%= Repo Rate
    Repo Rate + 0.5% = MSF

    Reply
  13. Kavita   March 30, 2017 at 6:19 pm

    Good information thnx sir

    Reply
  14. Kavita   March 30, 2017 at 6:21 pm

    Good information thnx sir
    Sir plz tell some important tips and syllables for up pgt

    Reply
  15. ila tyagi   April 15, 2017 at 12:41 am

    sir please keep writing. you are an awesme blogger. the way you explained everything is just amazing. thank you so much

    Reply
    • Anonymous   July 13, 2017 at 10:45 pm

      Hello dear

      Reply
  16. sumit jangir   April 16, 2017 at 7:21 pm

    Sir u explained it nicely
    Sir can u tell me how many types of bank are in India and wt their means

    Reply
  17. MOINUDDIN   April 18, 2017 at 11:10 pm

    Sir jis tarah aapne MSF ke bare me batatya isi tarah LAF ke bare me bhi bataye.

    Reply
  18. Anonymous   May 10, 2017 at 9:08 am

    thnks sir ji

    Reply
  19. kishan jaipal   May 10, 2017 at 9:08 am

    thnks sir ji

    Reply
  20. dinesh saran   May 29, 2017 at 8:54 am

    Sir higest msf all deposit ka 2% hota h

    Reply
  21. sanupma   May 29, 2017 at 11:55 am

    Sir kya aap msf ke bare ye btayenge ki ye sirf sheduled banks ko hi milta h y fir all financial institution ko…..aur plz ye bhi btaye ki sgl acnt ke total holding se msf ka kya relation m….mujhe pta chla ki msf sare financial institutions ke liye h……aur isme sgl acnt ke total holding ka 60 % tk loan mil skta h…..mujhe kafi confusion h isme…..mujhe satisfied ans nhi mil rha……so plz aap iske bare me hindi me details me btaye…..aur ye bhi btaye ki BR & MSF dono same kyo hota

    Reply
  22. Shveta   June 7, 2017 at 2:59 pm

    Sir mujhe money market aur capital market k bare me bta dijiye please. ……

    Reply
  23. varun   June 20, 2017 at 7:46 am

    Hello sir

    Reply
  24. Girdhari Makar   June 21, 2017 at 1:54 pm

    Waw sir clear hi ho gya

    Reply
  25. Dharmraj Rajbhar   July 11, 2017 at 1:10 pm

    धन्यवाद सर आपका हर एक शब्द दिमाग में जगह बना ले रहा है मुझे आपसे ही इकोनॉमी सीखनी है

    Reply
  26. Sindhu   October 11, 2017 at 8:07 pm

    Sir share ,share market and esse related matter jo vho usk bare me btaey plsss sir

    Reply
  27. Deepak maurya   November 30, 2017 at 10:44 am

    Please explain international trade.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.