भारत में परिवहन एवं यातायात सुविधाएँ

भारत में परिवहन एवं यातायात सुविधाएँ

Contents

Print Friendly, PDF & Email

भारत में 1991 के उदारीकरण के बाद पूँजी और प्रौद्योगिकी निवेश की  बाढ़ आ जाने पर परिवहन के साधनों का विकास हुआ है. भारत में परिवहन को हम चार भागों में बाँट सकते हैं.

[alert-warning]१. सड़क परिवहन (Road Transport)
२. रेल परिवहन (Rail Transport)
३. जल परिवहन (Water Transport)
४. वायु परिवहन (Air Transport) [/alert-warning]

 

सड़क परिवहन से जुड़े तथ्य- Facts Related to Road Transport in India

indian_roadways

१. भारत में सड़क परिवहन विश्व की तीसरी विशालतम प्रणाली है.

२. देश में सड़कों की कुल लम्बाई 33 लाख कि.मी. है (total length of Indian roads).

३. सड़क परिवहन (Road Transport) को हम तीन भागों में बाँट सकते हैं:– राष्ट्रीय राजमार्ग, प्रांतीय राजमार्ग और सीमावर्ती सड़कें.

४.  राजमार्गों की कुल लम्बाई है (Total length of national highway is) —  70,548 km

५. देश का सबसे लम्बा राष्ट्रीय राजमार्ग (longest highway in India) है– NH 7 जो वाराणसी से कन्याकुमारी तक जाता है. इसकी लम्बाई 2369 km है.

६. राष्ट्रीय राजमार्गों (National Highways) की कुल लम्बाई (total length) देश में सड़कों की कुल लम्बाई के २ प्रतिशत से भी कम है (National highways comprise 1.7% of India’s total road network), किन्तु आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि National Highways के जरिये कुल यातायात का 40 प्रतिशत आवागमन होता है.

७. देश में कुल यात्री यातायात का 85 प्रतिशत और माल यातायात का 65 प्रतिशत सड़क परिवहन  (Road Transport) के जरिये ही होता है.

८. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (National Highways Authority of India)-NHAI की स्थापना 1988 ई. को हुई थी. इसका मुख्य कार्य राष्ट्रीय राजमार्गों का रखरखाव करना है.

९. भारत में सड़क का घनत्व (density of Indian roads, प्रति 100 वर्ग किलोमीटर) 75.42 किमी. है. भारत में सड़क के घनत्व का वितरण असमान हैं. एक ओर जम्मू कश्मीर में यह केवल 10.48 किमी. है जबकि दूसरी ओर केरल में 387.24 किमी. है.

If we talk about density of Indian roads, we will have to calculate mean length of state roads per unit of land. Therefore in technical terms the density of road is expressed in km of state roads per 100 km2.

 

भारत के कुछ प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग निम्नलिखित हैं (Some important National Highways/NH)

१. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 1 (NH 1): Delhi to Amritsar (via Ambala and Jalandhar)

२. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 (NH 2): Delhi to Kolkata (via Mathura, Agra, Kanpur, Allahabad, Varanasi, Mohaniya, Barahi, Vidyavati)

ऊपर के दोनों राजमार्ग (1 and 2) मिलकर ग्रैंड ट्रंक रोड (Grand Trunk Road) बनाते हैं.

३. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 3 (NH 3): Agra to Mumbai (via Gwalior and Nasik)

४. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 4 (NH 4): Thane to Madras (via Pune and Belgaum)

५. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 6 (NH 6): Hazira (Gujarat) to Kolkata (via Nagpur)

६. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 7 (NH 7): Varanasi to Kanyakumari (via Riwa, Jabalpur, Nagpur, Hyderabad, Kurnool, Bangalore, Salem, Madurai)– यह सबसे लम्बा राजमार्ग है, longest NH

७. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 (NH 8): Delhi to Mumbai (via Jaipur, Ahmedabad, Baroda)

८.  राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 24 (NH 24): Delhi to Lucknow (via Bareilly)

 

प्रमुख राजमार्ग और उनकी लम्बाई (Important National Highways and their lengths)

National HighwaysRouteLength (km)
NH 7Varanasi-Kanyakumari2369
NH 6Hazira-Kolkata1645
NH 5Cuttack-Madras1533
NH 15Pathankot-Kandala1526

Top three states according to the road density in India: सड़क घनत्व के अनुसार तीन प्रमुख राज्य:-

  1. केरल
  2. तमिलनाडु
  3. त्रिपुरा

 

एक्सप्रेस राष्ट्रीय महामार्ग  (National Expressway)

यह देश में परिवहन को और भी गति देने के उद्देश्य से बनाए गए हैं. इनकी कुल लम्बाई लगभग 14, 846 किमी. है और इन्हें 2022 ई. तक बढ़ाकर 18,637 किमी. करने का उद्देश्य है. इनके नाम इस प्रकार हैं:–

१. स्वर्णिम चतुष्कोण (Golden Quadrangle) : दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता को जोड़ती है. लम्बाई:– 5846 किमी.

२. उत्तर-दक्षिण एवं पूर्व-पश्चिम गलियारे (North-South and East-West Corridors): श्रीनगर को कन्याकुमारी से तथा सिलचर (असम) को पोरबंदर (गुजरात) से जोड़ने वाले महामार्ग. लम्बाई:– 7300 किमी.

 

रेल परिवहन से जुड़े तथ्य -Facts related to Rail Transport in India

indian_railway

1. रेल परिवहन से प्रतिदिन 180 लाख लोग यात्रा करते हैं.

2. रोज 20 टन से अधिक माल ढोया जाता है.

3. इसका प्रबन्धन रेलवे बोर्ड के द्वारा किया जाता है जो रेल मंत्रालय के तहत है.

4. भारत में रेलवे का आरम्भ 16 अप्रैल, 1853 ई. को हुआ, जब पहली रेलगाड़ी, मुंबई से ठाणे के बीच 34 किलोमीटर मार्ग पर चलाई गयी थी.

5. रेल नेटवर्क (Rail Network) बिछाने का विचार इंजीनियर George Clarke ने दिया था.

6. Rail track/Railway network की लम्बाई (length) के मामले में भारत का स्थान हाल में ही तीसरे स्थान से खिसक कर चौथे पर आ गया है. See Wikipedia

7. लगभग 14 लाख लोग भारतीय रेलवे (Indian Railways) में कार्य करते हैं.

8. भारतीय रेलवे का कुल नेटवर्क (total network) 64099 किमी. है.

9. वर्ष 1996-97 के रेल बजट में रेलवे के 6 नए zones गठित करने की घोषणा की गयी थी जिनकी संख्या अब बढ़कर 16 हो चुकी है.

 

List of Railway Zones: भारत में रेलवे जोन

क्रम. नाम : स्थापना (Establishment) : मुख्यालय (Headquarters)
1. उत्तरी रेलवे (NR) 14 अप्रैल 1952 दिल्ली
2. पूर्वोत्तर रेलवे (NER) 1952 गोरखपुर
3. उ.पू. सीमांत रेलवे (NEFR) 1958 गुवाहाटी
4. पूर्वी रेलवे (ER) अप्रैल 1952 कोलकाता
5. दक्षिण-पूर्व रेलवे (SER) 1955 कोलकाता
6. दक्षिण-मध्य रेलवे (SCR) 2 अक्टूबर 1966 सिकंदराबाद
7. दक्षिणी रेलवे (SR) 14 अप्रैल 1951 चेन्नई
8. मध्य रेलवे (CR) 5 नवंबर 1951 मुंबई
9. पश्चिम रेलवे (WR) 5 नवंबर 1951 मुंबई
10. दक्षिण-पश्चिम रेलवे (SWR) 1 अप्रैल 2001 हुबली
11. उत्तर-पश्चिम रेलवे (NWR) 1 अक्टूबर 2002 जयपुर
12. पश्चिम-मध्य रेलवे (WLR) 1 अप्रैल 2003 जबलपुर
13. उत्तर-मध्य रेलवे (NCR) 1 अप्रैल 2003 इलाहाबाद
14. दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे (SECR) 1 अप्रैल 2003 बिलासपुर
15. पूर्व तटीय रेलवे (ECR) 1 अप्रैल 2003 भुवनेश्वर
16. पूर्व-मध्य रेलवे (ELR) 1 अक्टूबर 2002 हाजीपुर

प्रमुख रेल संग्रहालय : स्थापना तिथि
नई दिल्ली —1 फरवरी 1977
मैसूर —2 जून1979
चेन्नई —31 मार्च 2002
नागपुर — 14 दिसंबर 2002

 

भारतीय रेलवे गेज – Railway gauges in India

बड़ी लाइन (Broad Gauge): ब्रॉड गेज में रेल पटरियों के बीच की दूरी 1.616 मीटर होती है. Broad Gauge line की कुल लम्बाई 46,807 किमी. है जो कि देश के कुल रेलमार्गों के लम्बाई का 74.14% है.

मीटर लाइन (Meter Gauge): इसमें दो रेल पटरियों के बीच की दूरी एक मीटर होती है. इसकी कुल लम्बाई 13,290 किमी. है जो देश के कुल रेलमार्ग की लम्बाई का 21.02% है.

छोटी लाइन (Narrow Gauge): इसमें दो रेल पटरियों के बीच की दूरी 0.762 मीटर या 0.610 मीटर होती है. इसकी कुल लम्बाई (total length) 3,124 किमी. है जो भारतीय रेल (Indian Railways) की कुल लम्बाई  का 4.94% है. यह मुख्यतः पर्वतीय क्षेत्रों तक सीमित है.

Indian Railway Vision 2020

रेल विजन 2020 का केन्द्रीय लक्ष्य (aim) है — “भारतीय रेल को आगे लम्बी कूद के लिए तैयार करना”. Indian Railway Vision 2020 के लक्ष्य निम्नलिखित हैं:—

i) भौगोलिक और सामाजिक दृष्टि से समावेशी विकास (Inclusive growth from geographical and social view-points)

ii) राष्ट्रीय समग्रता को मजबूत करना (Consolidate national integrity)

iii) उत्पादक रोजगार सृजन (Creation of Productive Employment)

iv) पर्यावरण अनुकूलन (Ecological Adaptation)

 

Dedicated Freight Corridor Project

यह प्रोजेक्ट भारतीय रेलवे की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है. 27 दिसम्बर, 2006 को इस परियोजना का शिलान्यास पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने किया था. वर्ष 2009-10 के रेल बजट में रेल मंत्री ममता बनर्जी ने इस परियोजना को “Diamond Rail Project” का नाम दिया था.

 

कोंकण रेलवे (Konkan Railway)

1998 में कोंकण रेलवे का निर्माण भारतीय रेल की एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है. यह 760 किमी. लम्बा रेलमार्ग महाराष्ट्र में रोहा को कर्नाटक (Karnataka) के मंगलौर (Mangalore) से जोड़ता है. इस मार्ग पर एशिया की सबसे लम्बी 6.5 किमी. की सुरंग भी है (longest tunnel of Asia) .

रेलवे बजट २०१६ के मुख्य बिन्दुओं को जानने के लिए क्लिक करें.

 

जल परिवहन से जुड़े तथ्य (Facts related to Water Transport in India)

water_transport

 

1. भारत में दो प्रकार के जल परिवहन को उपयोग  में लाया जाता है- एक है आंतरिक जल परिवहन (Internal Waterways Transport) और दूसरा समुद्री जल परिवहन (Maritime transportation). आंतरिक जल परिवहन के लिए नदियों तथा समुद्री जल परिवहन के लिए समुद्र को प्रयोग में लाया जाता है.

2. भारत में 14500 किमी. लम्बा नौगम्य जलमार्ग है.

3. भारत में अंतर्देशीय जलमार्गों (International Waterways) के विकास, रखरखाव का काम “भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण” (Inland Waterways Authority of India- IWAI) करता है जिसका गठन 27 अक्टूबर, 1986 को हुआ था. इसका मुख्यालय कलकत्ता (headquartered at Kolkata) में है.

4. आपको जानकार आश्चर्य होगा कि आंतरिक जलमार्गों (Internal Waterways) से 0.15% कार्गो (cargo) की आवाजाही होती है.

5. Ministry of Surface Transport के एक survey के अनुसार भारत में 10 नदी मार्ग ऐसे हैं जहाँ हमेशा पर्याप्त मात्र में जल उपलब्ध रहता है. इसीलिए इन नदी मार्गों को राष्ट्रीय जलमार्ग घोषित कर दिया गया है. गंगा (ganga), नर्मदा (narmada), कृष्णा (krishna), गोदावरी (godavari), महानदी (mahanadi), ताप्ती (tapti), पश्चिमी तट एवं सुंदरवन क्षेत्र ऐसी सुविधा वाली प्रमुख नदी/घाट हैं.

वर्तमान में भारत में 6 राष्ट्रीय जलमार्ग (National Waterways) हैं —

राष्ट्रीय जलमार्ग 1 (National Waterway 1)

  • इलाहाबाद–हल्दिया खंड Ganga river.
  • स्थापना  = October 1986.
  • लम्बाई= 1620 km
  • निर्धारित विराम-स्थान = Haldia, BISN (Kolkata), Pakur, Farrakka and Patna.
  • अनिर्धारित विराम-स्थान = Haldia, Kolkata, Diamond Harbour, Katwa, Tribeni, Baharampur, Jangipur, Bhagalpur, Semaria, Doriganj, Ballia, Ghazipur, Varanasi, Chunar and Allahabad
  • माल परिवहन (Cargo Movement) = 3 million tonnes

राष्ट्रीय जलमार्ग 2 (National Waterway 2)

  • सदिया — धुबरी खंड Brahmaputra river.
  • स्थापना = September 1988.
  • लम्बाई = 891 km
  • निर्धारित विराम-स्थान= Pandu.
  • अनिर्धारित विराम-स्थान = Dhubri, Jogighopa, Tezpur, Silghat, Dibrugarh, Jamgurhi, Bogibil, Saikhowa and Sadiya
  • माल परिवहन (Cargo Movement) = 2 million tonnes

राष्ट्रीय जलमार्ग 3 (National Waterway 3)

  • कोल्लम से कोट्टापुरम
  • स्थापना = February 1993
  • लम्बाई = 205 km
  • निर्धारित विराम-स्थान = Aluva, Vaikom, Kayamkulam, Kottappuram, Maradu, Cherthala, Thrikkunnapuzha, Kollam and Alappuzha
  • माल परिवहन (Cargo Movement) = 1 million tonne

राष्ट्रीय जलमार्ग 4 (National Waterway 4)

  • काकीनाडा–पुद्दुचेरी River Godavari and River Krishna.
  • स्थापना = November 2008
  • लम्बाई = 1095 km

राष्ट्रीय जलमार्ग 5 (National Waterway 5)

  • तालचर –Dhamra stretch of the Brahmani River, Mahanadi River Delta.
  • स्थापना = November 2008
  • लम्बाई = 623 km

राष्ट्रीय जलमार्ग 6 (National Waterway 6)

  • Lakhipur to Bhanga of river Barak.
  • स्थापना=  2013
  • लम्बाई = 121 km

 

नहर जलमार्ग (Canal Waterways)

1. हमारे देश की उन प्रमुख नदियों की कुल लम्बाई 3,700 किमी. है जो यांत्रिक जलयानों के सञ्चालन योग्य हैं. परन्तु सच्चाई यह है कि केवल 2,000 किमी. का ही प्रयोग यांत्रिक जलयानों के लिए किया जाता है.

2. नहरों की कुल लम्बाई 4,300 किमी है पर 900 किमी में ही नौ-संचालन किया जा रहा है.

3. बकिंघम नहर भारत की सबसे लम्बी नौगम्य नहर है (लम्बाई= 796 किमी)—Buckingham Canal is 796 kilometers long. It is the longest navigable canal in India. यह कोरोमंडल के समानांतर विजयवाड़ा (आन्ध्र प्रदेश) से विल्लपुरम जिला (तमिलनाडु) तक विस्तृत है (parallel to the Coromandel Coast of South India from Kakinada in East Godavari district in Andhra Pradesh to Villupuram District in Tamil Nadu).

 

भारत में important canal waterways निम्नलिखित हैं:–

१. सरहिंद नहर–पंजाब

२. गंगा की नहरें– इनमें 541 किमी तक नावें चलती हैं.

३. केरल की पश्चिमी तटीय नहर में 480 किमी की लम्बाई में जल यातायात की सुविधा मिलती है.

४. पश्चिमी बंगाल के पश्चिमी भाग की नहरेंजल परिवहन की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण हैं.

५. गोवा की नहरों के माध्यम से लौह अयस्क निर्यात के लिए मर्मुगाँव बंदरगाह तक पहुँचाया जाता है.

६. कोरोमंडल तट पर बकिंघम नहर मद्रास को कृष्णा डेल्टा से जोड़ती हैं. लम्बाई= 400 किमी.

७. गोदावरी से दोलेश्वरम तक कृष्णा नहर में 640 किमी तक नावें चलती हैं.

 

नदी परिवहन (River Transport)

1. Haldia-Kolakata-Patna के बीच 935 किमी. की दूरी में स्टीमर व कार्गो चलते हैं.

2. ब्रह्मपुत्र नदी के मुहाने से डिब्रूगढ़ तक 1440 किमी. में स्टीमर चलते हैं.

3. Hughli river में जहाज चल सकते हैं.

फरक्का अवरोधक बाँध (Farakka Barrage)

Length: 38 km

Rivers associated: Bhagirathi-Hughli

 

समुद्री परिवहन (Sea Transport)

1. समुद्री बंदरगाह देश के लगभग 99% विदेशी व्यापार (Foreign Trade) का संचालन करते हैं.

2. भारत के पास द्वीपों सहित लगभग 7517 किमी. लम्बा व्यापारिक समुद्र तट है.

3. व्यापारिक जहाजरानी बेड़े (Commercial Marine feet) की दृष्टि से भारत विश्व में 17वें स्थान पर है.

4. भारत के सामुद्रिक परिवहन का नियमन Shipping Corporation of India द्वारा किया जाता है जिसकी स्थापना 2 अक्टूबर, 1961 को हुई थी.

5. बड़े बंदरगाहों के प्रबंध व विकास का जिम्मा केंद्र सरकार के हाथ में हैं जबकि अन्य बंदरगाह Concurrent list में आते हैं….जिनका प्रबंध केंद्र और राज्य सरकार दोनों कर सकती हैं.

6. जवाहरलाल नेहरु बंदरगाह (Jawaharlal Nehru Port, also known as Nhava Sheva) देश का आधुनिकतम बंदरगाह है (most modernised port in India). यह सबसे बड़ा कृत्रिम बंदरगाह (largest artificial port) भी है.

7. मुंबई और कोचीन के बंदरगाह प्राकृतिक बंदरगाह  (natural port) हैं जबकि कांडला ज्वारीय बंदरगाह (tidal port) है.

8. पूर्वी तट के बंदरगाहों में चेन्नई सबसे प्राचीन बंदरगाह है (oldest port in India in the Eastern Coast). Chennai port मुंबई के बाद दूसरा सर्वाधिक व्यापार वाला बंदरगाह है (second most traded port after Mumbai).

 

प्रमुख भारतीय बंदरगाह (Major Ports in India)

Name of the PortCoastState (राज्य)
कांडला (Kandla)Western Coastगुजरात (Gujarat)
मुंबई (Mumbai)Western Coastमहाराष्ट्र (Maharashtra)
जवाहर लाल नेहरु (Jawaharlal Nehru)Western Coastमहाराष्ट्र (Maharashtra)
मर्मुगाँव (Marmugao)Western Coastगोवा (Goa)
मंगलौर (Manglore)Western Coastकर्नाटक (Karnataka)
कोचीन (Cochin)Western Coastकेरल (Kerala)
हल्दिया (Haldia)Eastern Coastपश्चिम बंगाल (West Bengal)
पारादीप (Paradip)Eastern Coast ओड़िशा (Odisha)
विशाखापत्तनम (Vishakapatnam)Eastern Coastआन्ध्र प्रदेश (Andhra Pradesh)
चेन्नई (Chennai)Eastern Coastतमिलनाडु (Tamil Nadu)
इन्नौर (Ennore)Eastern Coastतमिलनाडु (Tamil Nadu)
तूतीकोरिन (Tutikorin)Eastern Coastतमिलनाडु (Tamil Nadu)

9. सालसट द्वीप (Salsette Island) पर स्थित मुंबई भारत का सबसे बड़ा बंदरगाह है (biggest port in India).

10. मार्मुगाँव (Mormugao port, Goa) एक प्राकृतिक बंदरगाह है. यहाँ निर्यात आयात के तुलना में अधिक होता है.

11. न्यू मंगलौर (New Manglore) बंदरगाह में लौह अयस्क के निर्यात की सुविधा है.

12. कलकत्ता (Kolkata) cargo handling के मामले में देश का दूसरा सबसे बड़ा बंदरगाह है.

13. विशाखापत्तनम बंदरगाह (Visakhapatnam port) देश का एकमात्र ऐसा बंदरगाह है जिसे तीन अंतर्रराष्ट्रीय मानक प्राप्त हैं –ISO14001:1996 (EMS)/ ISO 9001:2001 (QMS)/ OSHAS 18001. यह देश का सबसे गहरा बंदरगाह भी है (deepest port in India)

14. तूतीकोरिन (Tuticorin port) मन्नार की खाड़ी में स्थित है.

 

वायु परिवहन से जुड़े तथ्य (Facts related to Air Transport in India)

flying_plane

1. भारत में वायु परिवहन की शुरुआत 1911 ई. में हुई जब इलाहबाद से नैनी तक वायुयान द्वारा डाक सेवा शुरू की गयी थी.

2. पहली अंतर्राष्ट्रीय वायु सेवा (first international air service in India) 1922 ई. में कराची एवं मद्रास के बीच शुरू की गयी.

3. मुंबई-दिल्ली हवाई गलियारा (Mumbai-Delhi air corridor) को विश्व का छठे सबसे अधिक व्यस्त हवाई मार्ग (busiest air route) की उपाधि मिली हुई है.

4. भारत के सियाचिन ग्लेशियर को विश्व का सबसे ऊँचा हेलीपेड माना गया है (world’s highest helipad, built by India, is located on the Siachen Glacier).

 

भारत के प्रमुख एयरलाइन (List of important airlines in India)

 Last updated: (30.11.2011)
#एयरलाइन का नामविमान की संख्या
1।एयर इंडिया लिमिटेड117
2।एयर इंडिया चार्टर्स लिमिटेड22
3।एम / एस एयरलाइन एलाइड सर्विसेज लिमिटेड22
4।जेट एयरवेज90
5।जेट लाइट (इंडिया) लिमिटेड19
6।किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड–closed—
7।स्पाइसजेट लिमिटेड29
8।पैरामाउंट एयरवेज प्राइवेट लिमिटेड2
9।गो एयरलाइंस (इंडिया) प्रा.लिमिटेड10
10।इंटर ग्लोब एविएशन प्रा.लि, (इंडिगो)39
1 1।एमडीएलआर एयरलाइंस प्रा.लिमिटेड–closed–
12।डेक्कन कार्गो एवं रसद एक्सप्रेस प्रा.लिमिटेड5
13।ब्लू डार्ट एविएशन लिमिटेड (कार्गो)7
14।आर्य कार्गो एक्सप्रेस1

भारत के अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (International Airports in India)

Place-Airport Name-Owned by

  1. अहमदाबाद —-सरदार वल्लभभाई पटेल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा— भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  2. अमृतसर— श्री गुरु राम दास जी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा— भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  3. बेंगलुरू —बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा— बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड
  4. चेन्नई –चेन्नई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा— भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  5. कोचीन– कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट कोचीन— इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड
  6. गोवा— गोवा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  7. गुवाहाटी —लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  8.  हैदराबाद —जीएमआर राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —जीएमआर हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट (पी) लिमिटेड
  9. कोलकाता—- नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा — भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  10. मुंबई —छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा — GVK के नेतृत्व में संघ और विमानपत्तन प्राधिकरण
  11. दिल्ली— इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा—- जीएमआर समूह (54%), भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (26%), Fraport और Eraman मलेशिया (10% प्रत्येक)।
  12. तिरुवनंतपुरम—- त्रिवेंद्रम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा—- भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  13. पोर्ट ब्लेयर —-वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा—- भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  14. कालीकट—- कालीकट अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  15. नागपुर—- बाबासाहेब अंबेडकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  16. जयपुर —-जयपुर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  17. लखनऊ * —-चौधरी चरण सिंह अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —–भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  18. वाराणसी * —-लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  19. मंगलौर * —-मंगलौर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा—- भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  20. तिरुचिरापल्ली *—- तिरुचिरापल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  21. कोयम्बटूर * —-कोयम्बटूर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  22. भुवनेश्वर # —बीजू पटनायक हवाई अड्डा— भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
  23. इम्फाल #—- इम्फाल हवाई अड्डा —-भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण

* इन पांच हवाई अड्डों को अक्टूबर 2012 में अंतर्राष्ट्रीय दर्जा दिया गया था

# इन दो हवाई अड्डों को अक्टूबर 2013 में अंतर्राष्ट्रीय दर्जा दिया गया था

 

भारत में घरेलू हवाई अड्डे (Domestic Airports in India)

 

हवाई अड्डा—-शहर के नाम

१. श्री सत्य साई हवाई अड्डा —पुट्टपर्थी

२. जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा— पटना

३. लेह Kushok Bakula Rinpoche हवाई अड्डा —-लेह

४. शेख उल आलम हवाई अड्डा— श्रीनगर

५. लेंगपुई हवाई अड्डा —ऐजवाल

६. जॉली ग्रांट हवाई अड्डा —देहरादून

७. देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा— इंदौर

८. खेरिया हवाई अड्डा— आगरा

९. बिरसा मुंडा हवाई अड्डा —रांची

१०. अगाती हवाई अड्डा —-अगाती (लक्षद्वीप)

उपर्युक्त के अलावा,  राजमुंदरी, तिरुपति, विजयवाड़ा, विशाखापत्तनम, डिब्रूगढ़, गया, चंडीगढ़, रायपुर, दीव, जामनगर, पोरबंदर, राजकोट, सूरत, शिमला, जम्मू, जमशेदपुर, बेलगाम, मंगलौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर में घरेलू हवाई अड्डे हैं. खजुराहो, औरंगाबाद, पुणे, सोलापुर, शिलांग, पुडुचेरी, पठानकोट, जोधपुर, जैसलमेर, मदुरै, त्रिची, गोरखपुर, कानपुर आदि शहरों के हवाई अड्डों को आम तौर पर उन शहरों के नाम से जाना जाता है।

 

[alert-announce]English summary of the article

I wrote an article/essay about transport facilities in India. I mentioned some facts related to road, railway, air, water transport in India. In exams like Civil services/UPSC, SSC, Railway …many questions are asked from this topic. Specially I have written this article for railway aspirants who can get here a lot of information about Indian railway. I have prepared a list of important airlines in India as well as domestic and international airports in India. You can also get all important information about National Highways in India in this article. [/alert-announce]

6 Responses to "भारत में परिवहन एवं यातायात सुविधाएँ"

  1. Pankaj Kr. Maurya   July 29, 2016 at 9:02 am

    Sir mai polytechnic 2nd year ka student hu aur
    Mai IAS ki taiyri krna chahte hai iske liye hume kya krna hoga jis se hume स्नातक की डिग्री मिल जाये
    और आईएस के आपली कर सकू

    सर प्लीज़ रिप्लाई मी

    Reply
    • Sansar Lochan   July 29, 2016 at 9:15 am

      सबसे पहले आपको स्नातक उत्तीर्ण करना पड़ेगा (किसी भी डिवीज़न में)
      क्योंकि स्नातक के बाद ही आप इस परीक्षा के लिए बैठ सकते हैं. यदि आपको हड़बड़ी है तो आप फाइनल इयर में पहुंचकर as an appearing candidate इस परीक्षा में बैठ सकते हैं (शर्त यह है कि मेंस परीक्षा के फॉर्म भरते वक़्त आपके पास ग्रेजुएशन डिग्री हाँथ में आ जानी चाहिए).

      Reply
  2. abhishek   September 3, 2016 at 10:58 pm

    Abhisheksri150596@gmail dot com

    Sir,it is necessary to read pratiyogita darpan yearly also i want to be prepare upsc now I am BA (HIS)
    What should I do for upsc

    Reply
    • Sansar Lochan   September 4, 2016 at 10:20 am

      Pratiyogita Darpan सिविल सेवा परीक्षा के लिए अधिक फायदेमंद नहीं है. ज्यादातर उसमें विज्ञापन भरे रहते हैं और यह मैगज़ीन अब बैंकिंग क्लर्क लेवल का हो चुका है. आप इन्टरनेट की सहायता से मटेरियल/टॉपिक खोजें, वह ज्यादा बेहतर है. मैंने कुछ करंट अफेयर्स के PDF मैगज़ीन के रूप में इस पेज पर डालें हैं, आप क्लिक कर के पढ़ें.

      Reply
  3. Dhanraj   December 29, 2016 at 12:51 pm

    Sir I am geography student I apply your notes give me advice” thanking you”

    Reply
  4. kishan rathore   January 24, 2017 at 11:02 am

    Sir mujhe science mein problem h uske liye v notes upload krne ki kripa kijiye

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.