[Answerkey] CSAT 2016: History & Culture (इतिहास) Explained

[Answerkey] CSAT 2016: History & Culture (इतिहास) Explained

[ANALYSIS 1] Total Questions Asked in CSAT 2016: History and Culture: 2013, 2014, 2015 and 2015

history_prelims2016
2013=15Q, 2014=20Q, 2015=14Q, 2016=16Q

 

[ANALYSIS 2] Topic के अनुसार Break-up (Ancient, Medieval and Modern History) 2015 Vs 2016

history_cse2016 analysis

 

Q. भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में इतिव्रतों, राजवंशीय इतिहासों तथा वीरगाथाओं को कंठस्थ करना निम्नलिखित में से किसका व्यवसाय था? (Ancient India/प्राचीन भारत)

a) श्रमण

b) परिव्राजक

c) अग्रहारिक

d) मागध (Maagadha)

Answer: D

Explanation:

श्रमण: श्रमण जैन और बौद्ध परम्परा के संन्यासियों को श्रमण कहा जाता था.

परिव्राजक: परिव्राजक संन्यासियों को कहते थे.

अग्र्हारिक: ये वे ब्राह्मण थे जिनको राजा के द्वारा अग्रहार अर्थात् लगान मुक्त ग्राम दान किया जाता था.

मागध: प्राचीन और मध्यकाल में भारत के राजाओं के दरबार में कुछ व्यक्ति होते थे जो राजा की वीरगाथा का गान किया करते थे.  जिन्हें मागध कहा जाता था.

Source: Dilip Kumar Ganguly’s History and Historians of Ancient India, Page no. 4

 

Q. अजंता और महाबलीपुरम (Ajanta and Mahabalipuram) के रूप में ज्ञात दो ऐतिहासिक स्थानों में कौन-सी बात/बातें समान है/हैं? (Ancient India/ प्राचीन भारत)

1. दोनों एक ही समयकाल में निर्मित हुए थे.

2. दोनों का एक ही धार्मिक सम्प्रदाय से सम्बन्ध है.

3. दोनों में शिलाकृत स्मारक हैं.

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए.

a) केवल 1 और 2

b) केवल 3

c) केवल 1 और 3

d) उपर्युक्त कथनों में से कोई भी सही नहीं है.

Answer B

Explanation: अजंता की गुफाएँ ईसाकाल से पूर्व से ही बनने लगी थीं जबकि महाबलीपुरम मुख्यरूप से 8वीं शताब्दी में तैयार हुए. अजन्ता मुख्यतः बौद्ध धर्म से सम्बंधित है जबकि महाबलीपुरम की मूर्तियाँ पौराणिक हिन्दू गाथाओं से सम्बंधित हैं.

Source: NCERT (Temple architecture in India)

 

Q. प्राचीन भारत की निम्नलिखित पुस्तकों में से किस एक में शुंग राजवंश (Shunga Emperor) के संस्थापक के पुत्र की प्रेम की कहानी है? (Ancient History/ प्राचीन भारत)

a) स्वप्नवासवदत्ता

b) मालविकाग्निमित्र

c) मेघदूत

d) रत्नावली

Answer B

Explanation:

स्वप्नवासवदत्ता: – यह भास रचित नाटक है जिसमें नायक उदयन और नायिका वासवदत्ता की पुनर्मिलन की कहानी है.

मेघदूत: यह एक गीति काव्य है जो कालिदास द्वारा रचित है. यह किसी पौराणिक अथवा ऐतिहासिक कथा पर आधारित नहीं है.

रत्नावली: यह हर्ष रचित ग्रन्थ है जो सांतवीं शताब्दी में लिखा गया था.

Source: NCERT (Building, Paintings and Books)

 

Q. सम्राट अशोक के राजादेशों का सबसे पहले विकूटन (डिसाइफर) किसने किया था? (Ancient India/ प्राचीन भारत)

a) जॉर्ज बुह्लर

b) जेम्स प्रिंसेप (James Prinsep)

c) मैक्स मूलर

d) विलियम जोन्स

Answer B

Explanation: बनारस टकसाल में काम करने वाले इंग्लैंड के जेम्स प्रिन्सेप ने ब्राह्मी लिपि और खरोष्ठी लिपि पहली बार पढ़ी थी. अशोक के राजादेश इन्हीं लिपियों में थे.

Source: NCERT (Class-XI chapter-3http://www.ncert.nic.in/ncerts/l/lehs102.pdf

 

Q. भारत के धार्मिक इतिहास के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों विचार कीजिए: (Ancient India/ प्राचीन भारत)

1. बोधिसत्त्व (Bodhisattva), बौद्धमत के हीनयान (Hinayana) सम्प्रदाय की केन्द्रीय संकल्पना है.

2. बोधिसत्त्व अपने प्रबोध के मार्ग पर बढ़ता हुआ करुणामय है.

3. बोधिसत्त्व समस्त सचेतन प्राणियों को उनके प्रबोध के मार्ग पर चलने में सहायता करने के लिए स्वयं की निर्वाण प्राप्ति विलंबित करता है.

उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2 और 3

c) केवल 2

d) 1, 2 और 3

Answer B

Explanation: बोधिसत्त्व, बौद्धमत के महायान (Mahayana)और हीनयान दोनों सम्प्रदाय में है परन्तु एक ओर जहाँ हीनयान में बुद्ध के पुराने जन्मों के रूप को बोद्धिसत्व कहा गया है वहीं महायान में यह कल्पना है कि प्रत्येक मोक्ष का इच्छुक एक बोद्धिसत्व है जो कई चरणों को पार करते हुए बुद्धत्व को प्राप्त होता है.

Source: NCERT Thinkers, Beliefs and Buildings Cultural Developments (c. 600 BCE -600 CE)  http://www.ncert.nic.in/ncerts/l/lehs104.pdf

 

Q. भारत के इतिहास के सन्दर्भ में निन्मलिखित युग्मों पर विचार करें. (Medieval India/ मध्यकालीन भारत)

शब्द: विवरण

१. एरिपत्ति (Eripatti): भूमि जिससे मिलने वाला राजस्व अलग से ग्राम जलाशय के रख-रखाव के लिए निर्धारित कर दिया जाता था (Link)

२. तनियूर (Taniyurs): एक अकेले ब्राह्मण अथवा एक ब्राह्मण-समूह को दान में दिए गए ग्राम (Link)

३. घटिका (Ghatika): प्रायः मंदिरों के साथ सम्बद्ध विद्यालय

उपर्युक्त में कौन-सा/से युग्म सही सुमेलित है/हैं?

a) 1 और 2

b) केवल 3

c) 2 और 3

d) 1 और 3

Answer D

Explanation:

  1. एरिपत्ति (Eripatti): जलाशय को पुनर्निमाण के लिए लगाया हुआ कर.
  2. तनियूर (Taniyurs): ब्राह्मणों को दिए ग्राम ब्रह्म्देय कहलाते थे. इनमें जो अधिक महत्त्वपूर्ण ब्रह्म्देय थे, मात्र उन्हीं को तनियूर का दर्जा मिलता था. इसलिए यह गलत होगा कि ब्राह्मणों को दिए गए सभी ग्राम तनियूर कहलाते थे.
  3. घटिका (Ghatika): प्रायः मंदिरों के साथ सम्बद्ध विद्यालय

 

Q. मध्यकालीन भारत के आर्थिक इतिहास के सन्दर्भ में शब्द “अरघट्टा (Arghatta)” किसे निरुपित किया जाता है? (Medieval India/मध्यकालीन भारत)

a) बंधुआ मजदूर

b) सैन्य अधिकारियों को दिए गए भूमि अनुदान

c) भूमि की सिंचाई के लिए प्रयुक्त जलचक्र (Water Wheel)

d) कृषि भूमि में बदली गई बंजर भूमि

Answer C

Explanation: मध्य एशिया के शक लोगों ने वापी (Stepped Well) तथा अरघट्टा  या रहट (Persian wheel) का निर्माण किया।

Source: NCERT Class 7 TRACING CHANGES THROUGH A THOUSAND YEARS

 

Q. विजयनगर के शासक कृष्णदेव की कराधान व्यवस्था (Krishna Deva’s taxation system) से सबंधित निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए: (Medieval History/ मध्यकालीन भारत)

a) भूमि की गुणवत्ता के आधार पर भू-राजस्व की दर नियत होती थी.

b) कारखानों के निजी स्वामी एक औद्योगिक कर देते थे.

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों 

d) न तो 1, न  ही 2

Answer C

Explanation: कारखानों के निजी स्वामी औद्योगिक कर देते थे. इन करों की वसूली श्रेणियों (guilds) के माध्यम से होती थी.

 

Q. भारतीय इतिहास के मध्यकाल में बंजारे (Banjaras) सामान्यतः क्या थे? (Medieval History, मध्यकालीन भारत)

a) कृषक

b) योद्धा

c) बुनकर

d) व्यापारी 

Answer D

Explanation: बंजारे मध्यकाल के घुमंतू व्यापारी थे जो गाँव-गाव शहर-शहर घूम कर अपना माल बेचते थे. Nature of community institutions and ethos gives rise to a different organisation and practice of business.

Source: NCERT Solutions for Class 7th: Ch 7 Tribes, Nomads and Settled …

Q. मध्यकालीन भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:– (Medieval History/मध्यकालीन भारत)

a) तमिल क्षेत्र के सिद्ध (सित्तर, Siddhas/sittars) एकेश्वरवादी थे तथा मूर्तिपूजा की निंदा करते थे

b) कन्नड़ क्षेत्र के लिंगायत पुनर्जन्म के सिद्धांत पर प्रश्न चिह्न लगाते थे तथा जाति अधिक्रम को अस्वीकार करते थे

उपर्युक्त कथनों में कौन सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

Answer C

Explanation: दक्षिण भारत के सिद्ध एकेश्वरवादी थे. वे मुख्यतः शिव के उपासक थे. परन्तु वे शिव लिंग की उपासना के विरोधी थे. कन्नड़ क्षेत्र के सिद्ध लिंगायत शाखा के जनक बासवान के इस सिद्धांत को मानते थे कि पुनर्जन्म नहीं होता है और जातिप्रथा के भी विरोधी थे. At the same time other religious leaders, who did not function within the orthodox Brahmanical framework, were gaining ground. These included the Naths, Jogis and Siddhas. (NCERT)

Source: NCERT Bhakti-Sufi Traditions, Page 148

 

Q. वर्ष 1907 में सूरत में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के विभाजन (Surat Split of 1907) का मुख्य कारण क्या था? (Modern History/आधुनिक भारत)

a) लॉर्ड मिन्टो द्वारा भारतीय राजनीति में साम्प्रदायिकता का प्रवेश करना

b) अंग्रेजी सरकार के साथ नरमपंथियों की वार्ता करने की क्षमता के बारे में चरमपंथियों में विकास का अभाव (Wikipedia: Surat Split)

c) मुस्लिम लीग की स्थापना

d) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित हो सकने में अरविन्द घोष की असमर्थता

Answer B 

Explanation: नरमपंथी अपनी मांगों को मनवाने के लिए विचार-विमर्श करके सरकार के साथ छोटे मुद्दों के निपटारे की नीति में विश्वास करते थे और दूसरी तरफ चरमपंथी आंदोलन, हड़ताल और बहिष्कार में विश्वास करते थे. चरमपंथी के अग्रदूत लोकमान्य तिलक नरमपंथियों के इस नरम व्यवहार से खुश नहीं थे. दोनों गुटों के बीच वर्चस्व की लड़ाई के कारण 1907 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का विभाजन हो गया.

Source: NCERT MEMORIAL LECTURE SERIES

 

Q. सर स्टैफर्ड क्रिप्स की योजना (Plan of Sir Stafford Cripps) में यह परिकल्पना थी कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद— (Modern History/आधुनिक भारत)

a) भारत को पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान की जानी चाहिए

b) स्वतंत्रता प्रदान करने के पहले भारत को दो भागों में विभाजित कर देना चाहिए

c) भारत को इस शर्त के साथ गणतंत्र बना देना चाहिए कि वह राष्ट्रमंडल में शामिल होगा

d) भारत को डोमिनियन स्टेटस दे देना चाहिए

Answer D

Explanation: क्रिप्स मिशन ने पूर्ण स्वतंत्रता के स्थान पर भारत को dominion status देने का प्रस्ताव दिया था अर्थात् भारत का राष्ट्र प्रमुख ब्रिटेन का राजा या रानी ही होते.

Source: NIOS Text Book, Lesson 8, INDIAN NATIONAL MOVEMENT

 

Q. “स्वदेशी” और “बहिष्कार”  (‘Swadeshi’ and ‘Boycot’) पहली बार किस घटना के दौरान संघर्ष की विधि के रूप में अपनाए गए थे? (Modern History/आधुनिक भारत)

a) बंगाल विभाजन के विरुद्ध आन्दोलन 

b) होम रुल आन्दोलन

c) असहयोग आन्दोलन

d) साइमन कमीशन की भारत यात्रा

Answer A

Explanation: बंगाल विभाजन के विरुद्ध आन्दोलन: बंग विभाजन के आन्दोलन के समय भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के नेताओं ने पहली बार स्वदेशी आन्दोलन आरम्भ किया और ब्रिटिश सामानों, संस्थाओं के बहिस्कार की शुरुआत की. बाद में यह अंग्रेजों के खिलाफ के लिए लड़ने में एक बड़ा हथियार सिद्ध हुआ.

Source: NIOS Module 4 Chapter Nationalism 

 

Q. सत्य शोधक समाज (Satya Shodhak Samaj) ने संगठित किया (Modern History/आधुनिक भारत)

a) बिहार में आदिवासियों के उन्न्यन का एक आन्दोलन

b) गुजरात में मंदिर-प्रवेश का एक आन्दोलन

c) महाराष्ट्र में एक जाति-विरोधी आन्दोलन 

d) पंजाब में एक किसान आन्दोलन

Answer C

Explanation: सत्य शोधक की स्थापना महाराष्ट्र के ज्योतिबा फूले द्वारा जाति-व्यवस्था और ब्राह्मणों के वर्चस्व के विरोध में की गयी थी. इस समाज में कई गैर-ब्राह्मण जातियों के लोग सदस्य बनें. इस समाज ने मूर्ति-पूजा का भी विरोध किया.

Source: NCERT Class 8, Chapter 9, Page 117 (Women, Caste and Reform)

 

Q. मोंटेग्यू-चेम्सफोर्ड प्रस्ताव (Montague-Chelmsford Proposals) किससे सम्बंधित था? (Modern History/आधुनिक भारत)

a) सामजिक सुधार

b) शैक्षिक सुधार

c) पुलिस प्रशासन में सुधार

d) सांवैधानिक सुधार

Answer D

Explanation: मोंटेग्यू-चेम्सफोर्ड प्रस्ताव सांवैधानिक सुधार से सम्बंधित था. इसी प्रस्ताव के आधार पर भारत सरकार का अधिनियम 1919 बना. इस अधिनयम के तहत :—

  • मताधिकार का विस्तार किया गया.
  • केन्द्रीय और प्रांतीय विधान परिषदों को अधिक अधिकार दिए गए.

Source: NCERT Class 12, Chapter 15, Page 114 (Framing the Constitution The Beginning of a New Era)

 

Q. निम्नलिखित पर विचार कीजिए: (Modern History/आधुनिक भारत)

1. कलकत्ता यूनियन कमिटी (Calcutta Unitarian Committee)

2. टेबेरनेकल ऑफ़ न्यू डिस्पेंसेशन (Tabernacle of New Dispensation)

3. इंडियन रिफार्म असोसिएशन (Indian Reform Association)

केशब चन्द्र सेन (Keshab Chandra Sen) का सबंध उपर्युक्त में से किसकी/किनकी स्थापना है?

a) केवल 1 और 3

b) केवल 2 और 3

c) केवल 3

d) 1, 2 और 3

Answer B

Explanation: कलकत्ता यूनियन कमिटी (Calcutta Unitarian Committee) की स्थापना राजा राम मोहन राय ने की थी.

My personal comment after seeing the answerkey of CSAT Paper1 (History):–>> NCERT Wins again. लगभग सभी सवाल NCERT से ही आए. एक-दो सवाल यहाँ-वहाँ  से थे…मगर NCERT ने फिर मैदान मार लिया. Question Level पिछले वर्ष की तुलना में बहुत आसान था. आसान का साफ़-साफ़ अर्थ हुआ = Cut-off will go higher (at least due to History Portion). अक्सर प्राचीन भारत से सवाल बहुत कम या Zero आते हैं…पर इस साल number of questions के अनुसार, प्राचीन भारत ने मध्यकालीन भारत के सवालों से टक्कर ले ली (5=5). इसलिए UPSC PRE 2017 के लिए Ancient History को आप ignore न ही करें तो अच्छा होगा! अगले पोस्ट में rest subjects के answerkeys  (detailed analysis) आपके सामने रखेंगे. . .

Check Answerkeys 

Related Post

About Sansar

संसार लोचन sansarlochan.IN ब्लॉग के प्रधान सम्पादक हैं. SINEWS नामक चैरिटी संगठन के प्रणेता भी हैं. ये आपको अर्थशास्त्र (Economics) से सम्बंधित अध्ययन-सामग्री उपलब्ध कराएँगे और आपके साथ भारतीय एवं विश्व अर्थव्यवस्था विषयक जानकारियाँ साझा करेंगे.

23 Responses to "[Answerkey] CSAT 2016: History & Culture (इतिहास) Explained"

  1. PANDEY BN   August 9, 2016 at 3:29 pm

    JI SIR AAP NE SAHI KAHA ,SARE SAWAL ITIHAS KE NCERT SE HI THE. .PAR SIR JAB MAI PAPER DE RAHA THA. TO PRASNO KO PADHNE ME, AUR SAMJHNE ME ITNA TIME LAG JATA THA, KI BAS AAP DEKHTE HI REH JATE HAIN AUR LAGBHAG EK BADA HISSA PRASNO KA CHHOT JATA HAI. MERE SATH BHI AISA HI HUA, JISA MUJHE DAR THA. WASA HI HUA, DONO PAPER ME MAIN AADHE SE BHI KAM UTTAR DE PAYA HOON. AUR WO BHI 35% GALAT HAIN. SIR LALACH KA FAL BURA HOTA JO MERE SATH HUA, MAIN AB YE ACHCHHI TARAH SAMAJH CHUKA HOON, KI BINA 9-12 MAHINE LAGATAR AUR SAHI ROOP SE AUR SAHI DISHA ME HI PADHAI KAR KE ISE PAR KIYA JA SAKTA HAI. SIR MERE ROOM ME SIRF MUJHE LEKAR 9 PARIKSHARTHI THE. BAKI 11 LOG TO AAYE HI NAHI. SIR MAIN KAFI CONFUSE HO GAYA THA. PAPER DETE SAMAY AUR YE JANTE HUYE BHI KI YE SAHI FIR BHI GALAT UTTAR DE RAHA THA. AUR TO AUR SIR PAPER 1 KA Q. ATAL JI KA C SHI THA AUR HADBADI ME C AUR B DONO PAR GOLA HO GAYA. AUR SAHI SE DHYAN NA DENE SE KAI JAGAH 4 D KI JAGAH 5D PAR GOLA HO GYA AISE MERE 6 Q. KE UTTAR WEST HOGYE AUR 15 MINUTE BHI MERE GAYE AUR DAND KE ROOP ME 2 SAHI UTTAR BHI GAYE . SIR PAPER 2 JAB MILA TO GALTI SE MADAM NE SET A DE DIYA MUJHE AUR MANE OMR SHEET ME BHI A BHAR DIYA FIR 3 MINUTE SET B DE DIYA AUR BOLI ISKO HAL KARO SET A SET B DONO OMR PAR BHAR DIYA MAINE KUCH KAHA TO BOLI BAHUT JALDI HOTI HAI BHARNE ME. AB JO HUA SO HUA SIR PAR MERA 1 MAUKA TO GAYA PAR IS DO MAHINE KE PADHAI ME MAINE PAPER 1 32 SAHI AUR KIYA HOON PAPER 2 ME 46 Q. ME SE 31 SAHI AUR 15 GALAT KIYA HOON AB AAGE KYA KARNA CHAHIYE MUJHE, KRIPYA MARG DARSHAN KIJIYE. AB JO UCHIT HAI WO MUJHE BATAYE SIR, DHANYABAD JI

    Reply
    • Sansar Lochan   August 9, 2016 at 11:06 pm

      आपके पूरे कमेंट को पढ़ कर यही लगा कि आपको अभी और प्रैक्टिस की जरुरत है. प्रैक्टिस की कमी और अंतिम महीनों/घड़ी में तैयारी करने से ऐसी ही गलतियाँ होती हैं. मैंने पहले भी कहा है कि सिविल सेवा परीक्षा कोई मामूली परीक्षा नहीं है जिसे एक या दो महीने की तैयारी से (चाहे 24 घंटे दो महीने पढ़ लें) clear कर लिया जाए. कम से कम अभी से एक साल तक तैयारी कीजिएगा तब जा आकर आपका 2017 का UPSC PRE क्लियर होगा. साथ-साथ ऐसी गलतियाँ न हो जैसे आपने की …उसके लिए mock test भी देते रहना जरुरी है.

      Reply
  2. prabhat   August 10, 2016 at 12:19 pm

    Hello sir mai abhi 12th pass kiya and i take admission in BA. I WANT to become an ias officer but i can’t make decision that i start prepare for cse because i am from hindi medium .I also listen that hindi medium students have less possibilities to select in cse.ek bat aur ki agar mai select nahi ho paya to kyoki iski tyari suru karne ke bad mere pas job krne ka koi option nahi bchega kyoki mai BA kar rha hu.so kabhi sochta hu ki pahle cgl nikal lu phir ias ki tyari karunga.so sir please suggest me.

    Reply
  3. Jitesh Babul   August 10, 2016 at 7:30 pm

    thank you sir ! apke answer sabse jyada trustful hain aur authentic bhi. Chanakya wale pagal hain

    Reply
  4. Dhanush   August 10, 2016 at 7:33 pm

    Apke answerkeys poori duniya me best hain. thanks hum log par itna bada upkar karne k lie.

    Reply
  5. Govind Kushwaha   August 10, 2016 at 7:38 pm

    Yes i totally agree sansar sir k explanation world best hain. agle saal apka sath chahie

    Reply
  6. abc   August 23, 2016 at 3:53 pm

    Dear sir I have done m.a in eng &polity . l am a house wife . My age is 30 i know its too late for upsc but belong bc cate .I have 8 hours per day for prepra. I am totaly confused about my optional sub ma in poity but interest in history. Which sub i choose.l have nothing to lose please suggest me how i prepare for exam quality study.please send useful tips & where i get notes .

    Reply
    • Sansar Lochan   August 23, 2016 at 4:27 pm

      History is a vast subject but also a very favourite subject among civil services aspirants. History is liked by many aspirants because this is the only subject that sounds interesting and story kind of in nature (& that’s the only reason why ppl often opt this, ye sochkar ki kuch na kuch likh hi lunga) You will have to cover Indian History (Ancient+Med+Modern) and World History also. And about polity, you know about it very well.

      Technically you should go for Polity because you have at least sufficient knowledge about its syllabus and contents. History is still unknown for you and covering history’s vast syllabus is not a cake walk at all.

      But before taking any decision, I would suggest to you to read textbooks of NCERT (History) class XI (Themes in World History) and class XII (India History I, II and III)

      You don’t need to read each page of them, just have a look….and ask yourself, will it be easy for you to go in greater depth?

      Reply
  7. diksha   August 30, 2016 at 9:05 am

    Hello sir,
    Sir me civil service ki taiyari krna chahti hu or isk liye me kuch bhi krne ko taiyar hu I want to come true my dreams..
    But I am unable to join coaching class and me jis Jagah se hu vha se hm acchi books ki bhi klpana nhi kr skte..
    But I want to do anything for this..
    Please suggest me..
    I am waiting for ur suggestion..
    Apk notes bhut acche h me apko abhi kuch time se follow kr rhi hu..
    Please I have no other option..
    Thanx..

    Reply
    • Sansar Lochan   August 30, 2016 at 1:40 pm

      मैं आपकी भावनाओं और बातों को समझ सकता हूँ. मुझे ऐसे कई मेसेज आते हैं, फ़ोन पर भी और वेबसाइट पर भी जिसमें छात्र अपनी आर्थिक, सामजिक और कई तरह की असमर्थता को मेरे समक्ष रखते हैं जो सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए घातक है. इन समस्याओं के निवारण के लिए मैं प्रयासरत भी हूँ और एक प्रोजेक्ट पर काम भी कर रहा हूँ.

      खैर, आपको कोचिंग ज्वाइन करने की कोई आवश्यकता नहीं है. आप घर बैठ कर भी तैयारी कर सकती हैं बशर्ते आपको घर में पढ़ाई का अच्छा माहौल मिले. जहाँ तक रही किताबों की बात…आप स्कूल की किताबों से भी अपने सामान्य अध्ययन को दृढ़ बना सकती हैं. NCERT या भारती भवन प्रकाशन की किताबों को पढ़ कर आपको काफी लाभ मिलेगा. आपका लक्ष्य होना चाहिए कि इतिहास, भूगोल, पोलिटिकल साइंस, अर्थशास्त्र और विज्ञान आपका मजबूत पक्ष बन जाएँ. वैसे मैं अब इस वेबसाइट पर काफी एक्टिव हो चुका हूँ. इस वेबसाइट से जुड़े रहिये. मैं यहाँ पर स्टडी-मटेरियल ढेर सारा डालने वाला हूँ.

      Reply
  8. ankit   September 13, 2016 at 11:26 am

    Sir,
    Ignou ki books kaha tak
    helpful hoti hai upsc ke exam
    Ke liy aur agr helpful hoti bhi
    Hai to pre ke liy ya mains ke liy

    Reply
    • Sansar Lochan   October 3, 2016 at 6:39 pm

      IGNOU की किताबें हिंदी माध्यम के छात्रों के लिए उतनी फायदेमंद नहीं है. उन्हें बहुत गलत ढंग से इंग्लिश टू हिंदी अनुवाद किया जाता है. इसलिए अच्छा रहेगा कि NCERT या NIOS की बुक पढ़ें.

      Reply
  9. swapnil singh   September 24, 2016 at 4:27 pm

    Sir mera ghar village me hai mejhe ncert ki book nahi mil rahi hai to kya mai jo 10 th me rajeev prakadan ki book padhu aur ba 1st year me economics,political science me focous karu

    Reply
    • Sansar Lochan   September 26, 2016 at 9:42 am

      इस पब्लिकेशन के विषय में मुझे जानकारी नहीं है. वैसे आप ऑनलाइन NCERT PDF डाउनलोड कर सकते हैं.

      Reply
  10. swapnil singh   September 24, 2016 at 4:31 pm

    Sir charo GS paper ki tayari kaise karu

    Reply
  11. Nidhi choudhary   October 4, 2016 at 10:23 am

    Hello sir… good morning..
    I have completed my post graduation in microbiology.. age 23 year..and want to prepare for UPSC .. Know very well I m to much late… I Want to prepare by myself without any coaching…
    Plz can u suggest me how many hours are sufficient for a good study.. and how can i find some study sources in hindi… sir please suggest me..and i read the hindu news paper daily…
    Can u suggest me ant good magazine which will be sufficient for study..sir plz suggest me. thank you…

    Reply
    • Sansar Lochan   October 4, 2016 at 10:59 am

      It is never too late to start. You are only 23 years so chill! 4 to 5 hours rigorous study is enough for UPSC preparation but you must maintain same zest, same schedule for one year continuously between Prelims 2016 and Prelims 2017. I have made this website for Hindi medium students only and you will find enough updates and enough study-material in future. Otherwise, you can purchase some books from this link >> IAS Book list

      For magazine, you can blindly trust on my material which is updated monthly>> Monthly Magazine

      Actually there is a dearth of good magazines in Hindi.

      Reply
  12. Mohammad salim jamal   December 19, 2016 at 7:25 pm

    Hello Sir
    Mera naam mohammad salim jamal hai.mai aapko bahot bahot dhannyawad deta hu ki aap ias ki tyyari karne wale students ko ek rasta dikhate hai jisse wo sahi disha me tyyari kar sake. Aur safalta prapt kar sake.
    Sir, mai 12 hindi board se isi saal pass kar raha hu. Ias ki tyyari karna hai.kaise kru books ke naam batayen.aur coaching B.A 1 year lu ya 3 year.

    Reply
    • Ruchira   December 19, 2016 at 8:28 pm

      अभी आपका पूरा ध्यान ग्रेजुएशन में अच्छे मार्क्स लाने पर होना चाहिए. अक्सर लोग इस पड़ाव पर आकर एक गलती कर बैठते हैं. ग्रेजुएशन की पढ़ाई इग्नोर करके लोग आइएएस की तैयारी करने लगते हैं जिसके चलते ग्रेजुएशन के मार्क्स पर इसका असर दिख जाता है. आप एक काम कर सकते हैं. अभी से ही आप चार विषयों को मजबूत करने की कोशिश करें – इतिहास, भूगोल, पोलटिकल साइंस, अर्थशास्त्र…..आपने यदि इन विषयों में पकड़ बना ली तो समझें कि आपकी आधी नैया पार हो गयी. आप इसके लिए लुसेंट की किताब ले लें. यह रही लिंक:- Lucent GK in Hindi

      इसे पढ़ लें…आगे की बुक में बाद में बताऊंगी.

      Reply
  13. Ravindra   January 12, 2017 at 8:44 pm

    or sir ncert wala pdf download nhi ho raha h..

    Reply
  14. Ravindra   January 13, 2017 at 11:53 am

    sir ..request h aap se ..kya muje aap wo wala artical ka link bata dege jisme aapne bataya tha..csat kya hota h..or ias me konsa sub le. ..ias ka paper kese aata h …sir mene aapka ye articl pada tha ..or ab mene dusri bar padne ke liye dunda par mila nahi ..to sir aap bata dege uska link.. sir plzzz sir ..

    Reply
  15. pradeep kumar   May 2, 2017 at 6:29 pm

    sir mai ba bhu se karna chahta hu kya yah upsc exam ke liye thik rahega agar mai histry ko apna likely subject chunu to thik rahega

    Reply
  16. Akhilesh kumar   May 11, 2017 at 2:20 am

    Myself akhilesh.
    i want join u
    please motivate me regular for up pcs exame.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.