[Answer Key] UPSC CSAT 2016: Science & Tech Questions Solved in Hindi

[Answer Key] UPSC CSAT 2016: Science & Tech Questions Solved in Hindi

[ANALYSIS 1] Total Questions Asked in CSAT 2016

[Science-Tech/विज्ञान-तकनीक]
2014, 2015, 2016

csat_answerkey

 

[ANALYSIS 2] Topic-wise Breakup 2016

[Science-Tech/विज्ञान-तकनीक]

science_tech_upsc
2016 Civil Services Exam (Pre) Science-Tech

 

 
Physics/भौतकी

Q. भारत “अंतर्राष्ट्रीय ताप-नाभिकीय प्रायोगिक रिएक्टर (International Thermonuclear Experimental Reactor)” का एक महत्त्वपूर्ण सदस्य है. यदि यह प्रयोग सफल हो जाता है, तो भारत का तात्कालिक लाभ क्या है?

a) यह बिजली उत्पादन के लिए यूरेनियम की जगह थोरियम प्रयुक्त कर सकता है.

b) यह उपग्रह मार्गनिर्देशन (Satellite Navigation) में एक वैश्विक भूमिका प्राप्त कर सकता है.

c) यह बिजली उत्पादन में अपने विखंडन रिएक्टरों (fission reactors) की दक्षता में तेजी से सुधार ला सकता है.

d) यह बिजली उत्पादन के लिए संलयन रिएक्टरों (fusion reactors) का निर्माण कर सकता है.

Ans D

Explanation: 

अंतर्राष्ट्रीय ताप-नाभिकीय प्रायोगिक रिएक्टर एक विशाल रिएक्टर है. उर्जा की कमी की समस्या से निबटने के लिए इसे बनाया जा रहा है. भारत सहित विश्व के कई राष्ट्र (जापान, अमेरिका, रूस, चीन, दक्षिण कोरिया सहित यूरोपीय संघ भी इस project में शामिल हैं. इसकी खूबी यह है यह कम इंधन में ही अधिक ऊर्जा उत्पन्न कर सकता है. इसमें संलयन (fusion) से उसी प्रकार से ऊर्जा मिलेगी जैसे पृथ्वी को सूर्य या अन्य तारों से मिलती है। इसके निर्माण में अभी तक 5 अरब USA डॉलर खर्च हो चुका है. इस fusion reactor में एक बार में dutearium-tritium मिश्रण के दहनशील प्लाज्मा से 500 Mw ऊर्जा 500 seconds की अवधि तक पैदा की जा सकेगी.
  • इस प्रक्रिया में hydrogen के atoms को 10 crore degree centigrade temperature तक गर्म किया जाता है.
  • इस तापमान पर hydrogen के atoms एक साथ जुड़ जाते हैं और  helium के atoms को जन्म देते हैं.
  • जिससे heavy energy पैदा होती है.
  • 1 kg mass के fusion से 1 cr kg पेट्रोलियम ईंधन के बराबर ऊर्जा पैदा हो सकती है.

Reference: Current Affairs (14-August, 2015 PIB release)–Independence Day Special Feature. PIB:– India is one of the seven Partners in the largest International Cooperation Project ‘International Thermonuclear Experimental Reactor (ITER)’ being set up in France for harnessing fusion energy. DAE has initiated the process for acquiring Associate Membership of CERN-LHC, with which DAE Units have active on-going collaboration. http://pib.nic.in/newsite/efeatures.aspx?relid=126054

 

 
Space Tech/अंतरिक्ष तकनीक

Q. भारत द्वारा प्रमोचित खगोलीय वेधशाला, “ऐस्ट्रोसेट (Astrosat)” के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1.  USA और रूस के अलावा केवल भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसने अंतरिक्ष में उसी प्रकार की वेधशाला प्रमोचित की है.
  2. ऐस्ट्रोसेट/Astrosat 2000 किलोग्राम का एक उपग्रह है, जो पृथ्वी की सतह के ऊपर 1650 किलोमीटर पर एक कक्षा में स्थापित है.

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए.

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

Ans D

Explanation:

1. भारत चौथा देश है. पहले से USA, Russia और Japan भी शामिल हैं.

2. इसका भार 1513 kg है और पृथ्वी के सतह से केवल 650 km ऊपर है.  

Reference: Current Affairs (2- December, 2015 PIB release)–

28 September News:-  India Joins Rank of Countries With Space Observatory; ASTROSAT in Orbit. It was launched on a PSLV-XL on 28 September 2015

The Hindu: The 1,513 kg-weighing cuboid-shaped satellite would be eventually fine-tuned into 650 km above the Earth’s surface.

 

Q. ISRO द्वारा प्रमोचित मंगलयान (Mangalyaan)

  1. को मार्स ऑर्बिटर मिशन (Mars Orbiter Mission) भी कहा जाता है.
  2. ने भारत को, USA के बाद, मंगल के चारों और अंतरिक्ष यान को चक्रमण कराने वाला दूसरा देश बना दिया है.
  3. ने भारत को एकमात्र ऐसा देश बना दिया है, जिसने अपने अन्तरिक्ष यान को मंगल के चारों ओर चक्रमण (spacecraft orbit) कराने में पहली बार में ही सफलता प्राप्त कर ली.

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1

b) केवल 2 और 3

c) केवल 1 और 3

d) 1, 2 और 3

Ans C

Explanation:

Russia, USA, European Union के बाद मंगल के चारों और अंतरिक्ष यान को चक्रमण कराने वाला भारत चौथा देश है.  24 सितंबर 2014 को मंगल पर पहुँचने के साथ ही भारत विश्व में अपने प्रथम प्रयास में ही सफल होने वाला पहला देश बन गया है। 

Reference: Current Affairs- The Hindu, India Year Book
http://www.thehindu.com/sci-tech/science/say-thanks-to-isro-on-mars-mission/article6441174.ece

 

Q. “ग्रीज्ड लाइटनिंग- 10 (GL-10) Greased lightning-10”, जिसका हाल ही में समाचारों में उल्लेख हुआ, क्या है?

a) NASA द्वारा परीक्षित electric plane

b) जापान द्वारा डिजाइन किया गया और शक्ति से चलने वाला दो सीटों वाला विमान

c) चीन द्वारा लांच की गई अंतरिक्ष वेधशाला (space observatory)

d) ISRO द्वारा डिजाइन किया गया पुनरोपयोगी राकेट (reusable rocket)

Ans A

 

Explanation:

GL10_aircraft

१. ग्रीज्ड लाइटनिंग- 10 (GL-10) Greased lightning-10 बैटरी से चलना वाला प्लेन है जिसमें 10 इंजन लगे हैं.

२. यह हेलीकौप्टर की तरह take off कर सकता है और हवाई जहाज की तरह उड़ सकता है.

३. GL-10 Greased Lightning एक hybrid डीजल-इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट है.

४. NASA ने इसे बनाया है.

 

Reference: इस तरह के समाचारों में UPSC को खासा रूचि रहती है क्योंकि यह बैटरी से चलने वाला प्लेन है =environment friendly

 

Communication/संचार

Q. हाल ही में समाचारों में आने वाले “LiFi” के सन्दर्भ में निन्मलिखित कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. यह उच्च गति डेटा संचरण के लिए प्रकाश को माध्यम के रूप में प्रयुक्त करता है.
  2. यह एक बेतार प्रौद्योगिकी है और “WiFi” से कई गुना तीव्रतर है.

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए.

a) केवल 1

b) केवल 2

c) 1 और 2 दोनों

d) न तो 1, न ही 2

Ans C

Explanation:

यह WiFi जैसी ही wireless technology है जिसमें विजिबल लाइट  कम्यूनिकेशन (VLC) के जरिए data travel कराया जाता है. यह तकनीक lights का use करते हुए काफी तीव्र गति से डेटा का आदान-प्रदान करती है। जर्मन वैज्ञानिक हेराल्ड हास ने इसका आविष्कार किया है।इसकी कनेक्टिविटी स्पीड लैब में 1Gbps दर्ज की गई है, जो आम वाईफाई से 100 गुना ज्यादा है.

Reference: https://en.wikipedia.org/wiki/Li-Fi

 

Q. कभी-कभी समाचारों में दिखने वाला “प्रोजेक्ट लून (Project Loon)” सम्बंधित है-

a) अपशिष्ट प्रबंधन प्रौद्योगिकी से

b) बेतार-संचार प्रौद्योगिकी से

c) सौर-ऊर्जा उत्पादन प्रौद्योगिकी से

d) जल-संरक्षण प्रौद्योगिकी से

Ans B

Explanation:

  • लून परियोजना (Project Loon) आसमान में (स्ट्रेटोस्फ़ीयर या समतापमंडल में) उड़ने वाले गुब्बारों का एक नेटवर्क होगा।
  • यह 15 मीटर व्यास के बड़े गुब्बारे होंगे जो धरती से 20 किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ेंगे। यह प्रोजेक्ट गूगल का है.
  • इसका उद्देश्य दुनिया के 2/3 आबादी तक इन्टरनेट पहुँचाना है.

Reference: Current Affairs 30 Apr 2015 The Hindu

 

Biology/जीव विज्ञान

Q. जैव सूचना-विज्ञान (biopharmaceutics) में घटनाक्रमों/गतिविधि के सन्दर्भ में समाचारों में कभी-कभी दिखने वाला पद “ट्रांसक्रिप्टोम (transcriptome)” किसे निर्दिष्ट करता है?

a) जीनोम संपादन (genome editing) में प्रयुक्त एन्जायिमों की एक श्रेणी

b) किसी जीव द्वारा अभिव्यक्त mRNA अणुओं की पूर्ण श्रृंखला 

c) जीन अभिव्यक्ति (gene expression) की क्रियाविधि का वर्णन

d) कोशिकाओं में होने वाले आनुवंशिक उत्परिवर्तनों (genetic mutations) की एक क्रियाविधि

Ans B

Explanation:

  • ट्रांसक्रिप्टोम के तहत जींस की गतिविधियों को बताने वाले आरएनए मॉलिक्यूल्स का अध्ययन किया जाता है। ट्रांसक्रिप्टोम को आयु, जाति और प्रजाति के सूचक की तरह उपयोग किया जा सकता है.mrna
  • mRNA, RNA अणुओं का वह वृहद् परिवार है जो DNA से ribsome तक जेनेटिक सूचना (gene expression) पहुंचाता है.

 

Reference: BHARAT 2016: वार्षिक संदर्भ-ग्रंथ (Buy Book)

 

Q. निम्लिखित कथनों में कौन-सा/से सही है/हैं?

विषाणु (virus) संक्रमित कर सकते हैं

  1. जीवाणुओं को (bacteria)
  2. कवकों को (fung)
  3. पादपों को (plants)

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए.

a) केवल 1 और 2

b) केवल 3

c) केवल 1 और 3

d) 1, 2 और 3

Ans D

Explanation: 

Reference: NCERT Solutions for Class 11th Biology Chapter 2 Biological Classifications.

My personal comment after seeing the answerkey of CSAT Paper1 (Science-Tech):–>> Science-Tech में कुल 8 सवाल आए. इस साल साइंस-टेक से आये questions, UPSC के previous year questions की तरह ही थे. न तो सवालों की संख्या में अधिक अंतर था और  न ही सिर्फ एक सेक्शन पर ख़ासा फोकस किया गया–physics, biology, space, communication चारों सेक्शन से सवाल पूछे गए. Chemistry से कोई सवाल नहीं था जबकि पिछले वर्षों में chemistry से हमेशा सवाल आये हैं, like:– sodium chloride, chemical changes etc. Public Health/Nutrients से भी सवाल नहीं आए और न ही कोई vitamins पर सवाल पूछा गया. NASA के खोजों पर हर साल सवाल आ रहे हैं. 2014 में NASA द्वारा बनाए गए Cassini-Huygens, Messenger, Voyager 1 and 2 aircrafts से प्रश्न आये, 2015 में भी NASA द्वारा बनाये गए “Solar Impulse 2–world flight powered only by the solar energy” से सवाल पूछे गए. इसलिए UPSC 2017 के लिए भी आप NASA News को target करते रहें तो अच्छा होगा. वैसे यह सत्य है कि UPSC is always unpredictable.

 
Other Subjects Answerkey

11 Responses to "[Answer Key] UPSC CSAT 2016: Science & Tech Questions Solved in Hindi"

  1. vineet   August 11, 2016 at 10:34 am

    Thanks, it is really helpful…
    Thank u

    Reply
  2. rajesh   August 11, 2016 at 8:41 pm

    very nice it really help me

    Reply
  3. Kamal   August 11, 2016 at 11:26 pm

    Thanks sir
    u doing wonderful job for aspirants like us

    Reply
  4. Manoj Vats   August 11, 2016 at 11:30 pm

    Sir when u will upload economics answerkey m waiting eagerly. i m scoring 125 N thanks to u for that

    Reply
  5. Dheeraj   August 11, 2016 at 11:32 pm

    Wow!!! Thanks sir…that was i waiting for………………plz is saal wish kijiye k mera PRE clear ho jaaye bcz main mains me faad daluga itna pata hai

    Reply
  6. Himanshu Sharma   August 11, 2016 at 11:36 pm

    hum log besabri se itnzar kar rahe hain ki UPSC waale OBC ka age ghatakar max age 18 kar de aur attempt ghatakar 1 kar de haha

    Reply
  7. Ujjwal   August 12, 2016 at 11:38 pm

    Sansar sir blog is best in the world yaar! he explained everything in simple way…i m so happy ki mera 125 ke upar hi aa raha hai is baar

    Reply
  8. कुलदीप कुसुमाकर   August 14, 2016 at 1:08 pm

    निस्संदेह अद्भुत सराहनीय प्रयास…. सर आपके द्वारा शुरू किए गए इस ब्लॉग को कोटिश साधुवाद।

    UPSC जैसे जटिल और कठिनतम परीक्षा के लिए भी आपके द्वारा जो पुष्ट,परिपक्व और सौम्य मार्गदर्शन दिया जा रहा है, वो वाकई काबिल ए तारीफ है।

    मेरे जैसे कितने ही सामान्य मध्यम वर्ग से आने वाले युवा, UPSC की इस जटिलताओं के बाह्य आवरण से डर कर, कुंठित हो कर अपनी हिम्मत हार जाते हैं।

    सर आपका यह समुचित प्रयास न सिर्फ मेरे जैसे हिंदी माध्यम वर्ग के विद्यार्थी को हौसला देता है , अपितु आपके दिये मार्गदर्शन से यह कठिन मार्ग भी सुगम सा लगने लगा है…

    विश्वास रखता हूं कि आपका यह स्नेहिल आशीष सदैव इस कमजोर विद्यार्थी को मजबूती के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा..

    पुनः आपको और इस ब्लॉग को मेरी अशेष शुभकामनाएँ सर…

    प्रणम्य साधुवाद

    Reply
  9. chanchal singh rathore   November 29, 2016 at 11:52 am

    thank u very much sir ji, i iike this blog, its so helpful every students nd other guys… nd i work with you ,,,,, i am a computer opertar, ,,,,, so sir plz give me a chance ,,,,, gud job sir ,,,

    Reply
  10. shallu   December 30, 2016 at 10:16 am

    this is very help full for me .bcz main 10 class se IAS ki tyari kr rhi hu or ye site mujhe bhut achi lagi isse phle bhi main bhut sites dekh chuki hu

    Reply
  11. Anonymous   July 8, 2017 at 2:35 pm

    Thanks sir

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.