महात्मा गाँधी की ग्यारह सूत्री योजना – 11 Demands by Gandhi

महात्मा गाँधी की ग्यारह सूत्री योजना – 11 Demands by Gandhi

महात्मा गाँधी ने हिन्सात्मक घटना के चलते (चौरी-चौरा नामक स्थान पर आन्दोलनकारियों ने एक थानेदार और 21 सिपाहियों को जलाकर मार डाला) असहयोग आंदोलन को बीच में ही स्थगित कर दिया क्योंकि वे अहिंसात्मक आंदोलन के पक्ष में थे.  असहयोग आन्दोलन की असफलता के बाद गाँधीजी 11 फरवरी, 1930 से सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारम्भ करना चाहते थे. लेकिन देश की स्थिति का मूल्यांकन करते हुए उन्होंने एक बार सरकार से समझौता करने का प्रयत्न किया और वायसराय लॉर्ड इरविन (Lord Irwin) को एक पत्र लिखकर निम्नलिखित ग्यारह सूत्री माँगें  (11 Demands by Gandhi) पेश की –

महात्मा गाँधी की ग्यारह सूत्री योजना – 11 Demands

1) पूर्णरूपेण मदिरा निषेध (Total Prohibition)

2) विनिमय की दर घटाकर एक शिलिंग चार पेंस कर दी जाए (Exchange Rate should be reduced)

3) भूमि लगान आधा हो और उस पर काउंसिल का नियोजन रहे (Land rate should be halved)

4) नमक कर को समाप्त की जाए (Salt tax should be abolished)

5) सेना सम्बन्धी व्यय में कम-से-कम 50% की कमी हो (Defence expenditure should be reduced by 50%)

6) बड़ी-बड़ी सरकारी नौकरियों का वेतन आधा कर दिया गया (Salaries of top Govt. posts should be halved)

7) विदेशी वस्त्रों के आयात पर निषेध कर लगे (Import of foreign textile should be banned)

8) भारतीय समुद्र तट केवल भारतीय जहाज़ों के लिए सुरक्षित रहे और इसके लिए कानून का निर्माण हो (Indian sea coast should be reserved for Indian ships only)

9) सभी राजनीतिक बंदियों को छोड़ दिया जाए, राजनीतिक मामले उठा लिए जाए तथा निर्वासित भारतियों को देश वापस आने की अनुमति दी जाए (All political prisoners should be released and their political cases should be dropped)

10) गुप्तचर पुलिस हटा दिया जाए अथवा उस पर जनता का नियंत्रण रहे (Secret police should be either abolished or placed under the public)

11) आत्मरक्षा के लिए हथियार की अनुमति दी जाए (Arms for self protection be permitted)

गाँधीजी के इन ग्यारह सूत्रीय मांगों (eleven demands by Gandhiji) पर लॉर्ड इर्विन (Lord Irwin) ने कोई ध्यान नहीं दिया जिससे उनके मन में काफी निराशा हुई और उन्होंने डांडी यात्रा के साथ सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारंभ किया क्योंकि अब सरकार के साथ समझौता की कोई गुंजाईश नहीं रही थी.

अन्य articles पढ़ें:>>

सविनय अवज्ञा आन्दोलन

भारत छोड़ो आन्दोलन

4 Responses to "महात्मा गाँधी की ग्यारह सूत्री योजना – 11 Demands by Gandhi"

  1. Vasisht Kumar   May 1, 2017 at 9:39 am

    Good morning, sir

    Mera naam Vasisht Kumar he or apne sabhi post read karta hoo or use mai apni note book me bhi note karta hoo.
    Sir mera ek sawal he ki Gandhi ji ko nathu ram godse ne kyu mara ,kya reason tha ki ek Indian ne hmare rashtra ko mara .sir pls iska answer bta dijiye .
    Iske bare me kayi logo me mujhse pucha or kaha ki iska jawab btao .

    Reply
  2. VISHAL KUMAR CHAURASIYA   May 2, 2017 at 10:18 am

    It is good general point.

    Reply
  3. Abhishek Raman jha   May 3, 2017 at 5:05 pm

    Dr. sajiv sir jee

    namaste!

    yeh blog website mujhe sabse alg aur sabse achchi isliye lagti hai kyon ki yahan sare material to the point hote hain jismein saare unnecessary details filter kiye hue hote hain.

    jo kaam student ko khud karna chahaiye woh kaam aap log kar rahe hai.

    mujhe lagta hai yahan ke article ke intezaar mein students ko lazy hone ke bajay aisa to the point likhne ki practice karna chahiye ; yahan se dekh kar.

    well

    Thank you so much dr. sajiv sahab.

    Reply
  4. Anonymous   May 11, 2017 at 5:16 pm

    Dr. Sahib Sir jee
    namaste!
    main Anwesha Dwibedi 3 first year history hon. leker padh Rahi hu.mera sawal had ki gandhiji ne kyu sirf harijan ke bare main socha aur kyu itna important De rahe the.unhone ase gurutwa diye ki iss samaya main bramhan jati ko nokri nehi MIL parahe had. achha achha student ko bhi nokri nehi MIL parahe hai.mera prashna ka utter soch ke jarur dijiye ga.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.